Tuesday, Apr 07, 2020
exclusive interview with aap leader raghav chadha

Exclusive Interview: चुनाव में जनता को राष्ट्रीय मुद्दों से नहीं मतलब, बिजली-पानी पर ही पड़ेंगे वोट

  • Updated on 1/25/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) में भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party), कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होना है। आम आदमी पार्टी अपने 5 साल के रिपोर्ट कार्ड और भविष्य की रुप रेखा के लिए गारंटी कार्ड लेकर मैदान में उतरी है। आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राजेंद्र नगर विधानसभा सीट से उम्मीदवार राघव चड्ढा विरोधियों को पटखनी देने को तैयार हैं। नवोदय टाइम्स/पंजाब केसरी की टीम से उन्होंने पूरी लड़ाई पर खुलकर बात की, प्रस्तुत हैं प्रमुख अंश:

- अमित शाह कह रहे हैं कि दिल्ली में ना तो वाईफाई लोगों को मिला ना ही सीसीटीवी कैमरे ही दिखाई दे रहे हैं। इस पर क्या कहेंगे?
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भतीजी का दिनदहाड़े बैग छीन लिया गया था। दिल्ली की नकारा पुलिस इस तरह की घटनाओं को रोक नहीं पाती, वह पीएम की भतीजी को भी सुरक्षा नहीं दे पाई। फिर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा लगाए गए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से चोर पकड़ा गया। यह बात अमित शाह को बतानी चाहिए।

दिल्ली चुनाव: विधानसभा चुनाव में 668 उम्मीदवार आजमाएंगे अपनी किस्मत

- शाहीनबाग प्रदर्शन का समर्थन करते हैं आप।
दरअसल भाजपा तो चाहेगी कि चुनाव काम और विकास के मुद्दे से हट जाए। जो मुद्दे आम लोगों को छूते हैं, उन पर बात नहीं हो। जनता को इन चीजों से मतलब नहीं है। हम चाहते हैं कि चुनाव बिजली-पानी पर हों, शिक्षा स्वास्थ्य पर हों। बीजेपी ने कोशिश की थी दूसरे प्रदेशों के चुनाव में राष्ट्रीय मुद्दे लाने की, लेकिन जनता ने नकार दिया। 

झूठ फैला रही है भाजपा

- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी का आरोप है कि दिल्ली सरकार फ्री पानी नहीं, फ्री बीमारी बांट रही है? 
यह झूठ फैलाने का प्रयास किया जा रहा है। दिल्ली जल बोर्ड रोज 500 जगहों से पानी के सैंपल उठाता है और उनकी जांच की जाती है। पिछले साल जनवरी से सितम्बर तक तीन लाख के  लगभग सैंपल उठाए गए। जिनकी जांच की गई और पाया गया कि 99 प्रतिशत सैंपल बिल्कुल सही हैं। जो कमी है उसे भी दूर किया जाएगा। जब आम आदमी पार्टी की सरकार बनी तो केवल 52 प्रतिशत दिल्ली में पेयजल मिलता था। हमने काम किया और अब 94 प्रतिशत दिल्ली को पेयजल मिल रहा है। 

- कांग्रेस को लेकर क्या कहना है आपका?
कांग्रेस तो कही है ही नहीं। अप्रासंगिक है, उसको वोट देना मतलब वोट खराब करना है। मुझे नहीं लगता कि कोई भी कांग्रेस को वोट देकर अपना वोट बर्बाद करना चाहेगा।

दिल्ली चुनाव: BJP उम्मीदवार कपिल मिश्रा के खिलाफ FIR दर्ज, हटाया गया विवादित ट्वीट

 - राजेन्द्र नगर में एक नाला है जो समस्या का कारण बना है, उस पर क्या कहेंगे?
नाले को ठीक करने का काम निगम सालों से नहीं कर पाया जबकि भाजपा की उसमें 17 साल से सरकार है। मेरा वादा है कि इस बार सरकार बनते ही 100 दिन के भीतर नाले की दिक्कत को दूर कर दिया जाएगा। ओल्ड राजेन्द्र नगर हो या न्यू राजेन्द्र नगर, यहां आवारा कुत्तों की समस्या है। बुद्ध नगर, टोडापुर आदि इलाकों में सीवर और पानी की समस्या है। मैंने पूरी विधानसभा को सात हिस्सों में बांटा है और सभी के लिए घोषणा प्रत्र जारी करूंगा। 

कांग्रेस की बात करना समय खराब करने जैसा है

- कांग्रेस प्रत्याशी कहते हैं कि हम इलाके के हैं और युवा हमसे जुड़ा हुआ है।
कांग्रेस की बात करना समय खराब करना है। वह लड़ाई में ही नहीं है। लड़ाई भाजपा-आप के बीच है और भाजपा आप से कोसों पीछे है।

- आप युवा चेहरा हैं, युवाओं का साथ किस तरह से मिल रहा है?
कैंपेन में युवा खुलकर सामने आ रहे हैं। युवाओं को अच्छा लग रहा है कि एक युवा अपनी नौकरी छोड़कर सेवा देने के लिए हमारे बीच आ रहा है। युवाओं का भरपूर समर्थन मिल रहा है, इसके लिए उनका शुक्रिया। 

दिल्ली चुनाव: जे पी नड्डा ने AAP के साथ कांग्रेस को लिया आड़े हाथ

- मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपील कर रहे हैं कि यह चुनाव अलग हैं, भाजपा और कांग्रेस समर्थक भी आम आदमी पार्टी को वोट करें।
काम पर वोट पड़ रहा है। मैं एक शादी में गया था। वहां पर एक भाजपा समर्थक मुझे मिले। मैंने पूछा क्या हो रहा है, किसको वोट करेंगे। इस पर उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में तो हमने मोदी को वोट दे दिया, इस चुनाव में तो हम आप को वोट करेंगे। मेरा भी बिजली बिल और पानी बिल जीरो हो गया है। हम भी अरविंद केजरीवाल को जिताएंगे। भाजपा और कांग्रेस वाले भी आप को वोट देने की बात कह रहे हैं, यह बड़ी उपलब्धि है।

CAA का प्रदर्शन मेरे क्षेत्र में नहीं

- जेएनयू और जामिया के युवा प्रदर्शन कर रहे हैं, क्या उनसे भी मिल रहे हैं आप?
मेरे क्षेत्र में ऐसा प्रदर्शन नहीं है। मेरे साथ तो क्षेत्र का युवा चल रहा है। 

- काफी कम उम्र में आपने राजनीति को चुना?
दरअसल मैंने राजनीति को नहीं चुना, राजनीति ने मुझे चुना है। मैं ऐसे परिवार और समाज से आता हूं जहां राजनीति को अच्छा नहीं माना जाता। बचपन में टीचर मुझसे पूछती थीं कि बड़े होकर क्या बनोगे तो मैं कहता था फौज में जाऊंगा और देश की सेवा करूंगा। देश की सेवा करने का भाव शुरू से ही था। अब अरविंद केजरीवाल का साथ मिला है तो लगता है कि दिल्ली की सूरत बदलने में मेरा भी थोड़ा सा योगदान है। बच्चों को अच्छी शिक्षा देने में, मोहल्ला क्लीनिक खोलने में, अस्पतालों की हालत सुधारने में। 

केजरीवाल की सलाह पर AAP विधायक जगदीप सिंह ने वापस लिया इस्तीफा

- अपनी सीट व दिल्ली को लेकर क्या उम्मीदें हैं?
एक बार फिर से प्यार और आशीर्वाद मिलने जा रहा है। मैं तो जहां जा रहा हूं लोग कह रहे हैं अच्छे बीते पांच साल लगे रहो केजरीवाल।

राजेंद्र नगर मेरी जन्मभूमि

- विपक्षी आरोप लगा रहे हैं कि राघव का राजेन्द्र नगर विधानसभा क्षेत्र से कोई नाता नहीं, वह बाहर के हैं। 
मेरा परिवार इस इलाके में 65 साल से रहता है। यहीं पर स्थित गंगाराम अस्पताल में मेरा जन्म हुआ है। मेरे पिता जी की तरफ का परिवार ओल्ड राजेन्द्र नगर और न्यू राजेन्द्र नगर में रहता है। मेरा ननिहाल नारायणा में है, जो इसी विधानसभा क्षेत्र में है। यहां की गलियों में मैं खेला हूं, छोले-भटूरे, कुल्फी, इडली खाई है। यह मेरा घर है। मेरा परिवार इस विधानसभा क्षेत्र के सबसे पुराने परिवारों में आता है। इन सब के बाद भी पता नहीं क्यों झूठ फैलाया जा रहा है। कांग्रेस की बात करना तो समय बेकार करना है, हां भाजपा के प्रत्याशी तो छह साल पहले ही इस विधानसभा में शिफ्ट हुए और यहां रहना शुरू किया। 

दिल्ली चुनाव: कुछ कांग्रेस नेताओं से था विवाद, इसलिए नहीं बनाया स्टार प्रचारक- संदीप दीक्षित

- राजेन्द्र नगर जहां से आप मैदान में हैं, वहां आपको भाजपा के दिग्गज और पुराने नेता आरपी सिंह से लड़ाई लड़नी है। किस तरह की चुनौती देखते हैं? 
हां, यह सही है कि आरपी सिंह उम्र में बड़े हैं, उनके पास बहुत अनुभव है। मेरे पास इतना अनुभव नहीं है, लेकिन राजेन्द्र नगर विधानसभा क्षेत्र में मेरी जन्मभूमि है। विधानसभा का पूरा इलाका मेरा परिवार है। क्षेत्र की सेवा करने का मौका मिला है तो उसे बखूबी पूरा करूंगा। हां, एक बात और अनुभव नहीं है तो भ्रष्टाचार करने का अनुभव भी नहीं है। वोट मांगकर जनता को भूल जाना, पांच साल तक नजर नहीं आना, इस तरह का अनुभव हमारे पास नहीं है। झूठी बातें करना, बरगलाना, प्रोपेगेंडा फैलाना, यह अनुभव भी नहीं है हमारे पास। उस नजरिए से देखें तो यह अनुभव हमारे पास नहीं है तो अच्छी बात है।

comments

.
.
.
.
.