Friday, Jan 28, 2022
-->
exclusive-interview-with-bhim-army-founder-chandrashekhar-azad

Exclusive Interview: मोदी को जिसे हराना है वह करेगा मेरा समर्थन - चंद्रशेखर

  • Updated on 3/16/2019

नई दिल्ली/सूरज सिंह। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बनारस में चुनाव लडऩे का ऐलान कर चुके भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर शुक्रवार को बड़ी रैली आयोजित की। उन्होंने महागठबंधन से अपील की है कि सिर्फ इस सीट पर समर्थन करे। नवोदय टाइम्स ने चंद्रशेखर से विशेष बातचीत की। प्रस्तुत हैं प्रमुख अंश:

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर का आज दिल्ली में हल्ला बोल, हुंकार रैली में होंगे शामिल

दिल्ली में बड़ी हुंकार रैली आयोजित की, इसका मकसद क्या था?
चुनाव के दिन हैं और देश की जनता परिवर्तन चाहती है। रैली का भी यही मकसद था। हमारी कोशिश है कि भीम आर्मी के कार्यकर्ता देशभर में घर-घर पहुंच जाएं और भाजपा को हराने के लिए दो महीने तक बिना थके और रुके काम करें। 

आपने मोदी के खिलाफ चुनाव लडऩे का ऐलान किया है। क्या, ये रैली शक्ति प्रदर्शन थी?
नहीं, अभी तो साथियों में जोश भरने के लिए जंतर-मंतर पर रैली की गई। शक्ति प्रदर्शन तो बनारस में दिखाएंगे। भारत देश बहुजनों का है। 85 प्रतिशत लोग काम करें और 15 प्रतिशत लोग राज करेंगे। हम ऐसा होने नहीं देंगे। बनारस में बहुजन राज करे, वहां बड़ी तादाद में बहुजन हैं। उन्हीं की आवाज है कि पीएम मोदी वहां से हार जाएं।

...तो इसलिए कांग्रेस से नाराज हुईं मायावती, अमेठी-रायबरेली से उतार सकती हैं उम्मीदवार

आप बहुजन की बात कर रहे हैं। क्या, सर्वजन को साथ लिए बगैर जीत पाएंगे?
देखिए, जो लोग संविधान के समर्थन में हैं। जो अंबेडकरवाद के साथ खड़े हैं, वह सब लोग बहुजन में आते हैं। जो मानवता की बात करते हैं, वह लोग बहुजन में आते हैं। जब आदमी मानवता की बात करता है तब उसकी कोई जाति नहीं रहती।

उसका कोई धर्म नहीं रहता, लेकिन जब आदमी छुआछूत, गैर बराबरी, ऊंच-नीच की बात करता है। आदमी पर आदमी उत्पीडऩ की बात करता है, तब यह पीड़ा खड़ी होती है। जो लोग चाहते हैं कि मोदी जैसे तानाशाह से मुक्ति मिले वे इसमें मदद करेंगे।

किस चुनाव चिन्ह पर लड़ेंगे? गठबंधन से किस तरह सहयोग मांगेंगे?
चुनाव व्यक्ति लड़ता है। भारत का नागरिक हो, उसकी आयु नियम मुताबिक हो। जो चाहते हैं कि मोदी परास्त हों वे समर्थन करेंगे। जो चाहते हैं कि मोदी जीत जाएं वे समर्थन नहीं करेंगे।

प्रियंका गांधी ने अस्पताल में भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर से की मुलाकात, सियासत गर्म

उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश यादव के बीच गठबंधन हुआ है। ऐसी स्थिति में भीम आर्मी की चाहत कैसे पूरी हो पाएगी?
भीम आर्मी बहुजनों का राज चाहती है। वह जरूर संभव होगा। भाजपा को हराने के लिए भीम आर्मी देश में निकल चुकी है। नौजवान देश की ताकत हैं। मोदी ने बड़े-बड़े वायदे किए थे। 2 करोड़ रोजगार का अतापता नहीं है। सभी जातियों के नौजवान बेरोजागारी से पीड़ित हैं और यह युवा भाजपा से मुक्ति चाहता है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.