Saturday, Aug 15, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 14

Last Updated: Fri Aug 14 2020 09:42 PM

corona virus

Total Cases

2,512,245

Recovered

1,796,249

Deaths

49,005

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA572,734
  • TAMIL NADU326,245
  • ANDHRA PRADESH273,085
  • KARNATAKA203,200
  • NEW DELHI150,652
  • UTTAR PRADESH145,287
  • WEST BENGAL110,358
  • BIHAR98,370
  • TELANGANA88,396
  • GUJARAT76,569
  • ASSAM71,796
  • RAJASTHAN58,027
  • ODISHA54,630
  • HARYANA45,614
  • MADHYA PRADESH43,414
  • KERALA39,708
  • PUNJAB29,013
  • JAMMU & KASHMIR27,489
  • JHARKHAND20,950
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND11,615
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
experts on chinese corona vaccine medicine can make people seriously ill prshnt

कोरोनाः चीन की वैक्सीन को लेकर एक्सपर्ट्स ने दी चेतावनी, कहा- कर सकती है गंभीर रूप से बीमार

  • Updated on 7/6/2020

नई दिल्लीय/ टीम डिजिटल। दुनिया में कोरोना महामारी से निपटने के लिए हर देश वैक्सीन बनाने के काम में जुटा हुआ है। ऐसे में चीन में 4 दवा कंपनियां कोरोना वैक्सीन बनाने पर काम कर रही हैं। चीन की सीनोवैक (Sinovac) कंपनी के कोरोना वैक्सीन के पैकेट पर साफ तौर से उन्होंने लिखा है कि इससे चीन के नेशनल मेडिकल प्रोडक्ट एडमिनिस्ट्रेशन की ओर से मंजूरी नहीं मिली है, लेकिन इपोच टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन के सरकारी कंपनी ने अपने कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से इस वैक्सीन को लगवाने के लिए कहा है।

मलेशिया जाकर जाकिर नाइक से मिला था दिल्ली दंगे का आरोपी खालिद सैफी

वैक्सीन को सरकारी एजेंसियों से नहीं मिली कोई अनुमति
बता दें कि दीईपोचटाइम्स डॉट कॉम को कंपनी का एक आंतरिक डॉक्यूमेंट मिला, जिससे उन्होंने यह जानकारी ली कि ट्रैवल्स स्काई टेक्नोलॉजी नाम की कंपनी ने अपने ही कुछ कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से इस कोरोना वायरस ट्रायल में हिस्सा लेने को कहा है। वहीं दूसरी ओर एक्सपोर्ट ने कहा है कि इस वैक्सीन को सरकारी एजेंसियों से कोई अनुमति नहीं दी गई है ऐसे में यह वैक्सीन खतरनाक भी साबित हो सकता है।

कोरोना संकट: घर में उपयोगी मेडिकल उपकरणों की बढ़ी मांग, लाखों लोग होम आइसोलेशन में

डॉक्यूमेंट में वैक्सीन को बताया गया सुरक्षित और प्रभावी
रिपोर्ट के मुताबिक 15 जून को जारी डॉक्यूमेंट से पता चलता है कि सरकारी कंपनी ने सात समूह के अपने कर्मचारियों को कोरोना वायरस वैक्सीन लेने के लिए कहा है, इस वैक्सीन को लेकर दिसंबर 2019 के आंकड़े बताते हैं कि कंपनी में कुल 7476 कर्मचारी है और डॉक्यूमेंट में यह बताया गया है कि यह वैक्सीन काफी सुरक्षित और प्रभावी भी है।

सावन का पहला सोमवार आज, हर-हर माहदेव के जयकारों से गूंजे शिवालय

वैक्सिन के हो सकते है बूरे प्रभाव
वैक्सीन को लेकर अमेरिका के सोसाइटी ऑफ टेक्नोलॉजी के सदस्य और चाइनीस यूनिवर्सिटी आफ हॉन्ग कोंग से जुड़े चान किंग मिंग का कहना है कि यह वैक्सीन खतरनाक हो सकता है यह भी हो सकता है कि यह वैक्सीन कोई काम ही ना करें और इससे सबसे बुरी स्थिति में यह हो सकता है कि वैक्सीन की वजह से लोग संक्रमित हो जाए और उन्हें वुहान के लोगों की तरह निमोनिया हो जाए।

चान किंग मिंग ने सवाल किया है कि इस वैक्सीन को मंजूरी नहीं मिली है तो इससे लोगों की सुरक्षा के लिए कौन जिम्मेदार होगा? दरअसल बीजिंग स्थित कंपनी सीनोवैक बायोटेक ने कोरोना वैक नाम से कोरोना वैक्सीन कैंडिडेट तैयार किया है। बता दें कि इस वक्त इनका ट्रायल अमेरिका और ब्रिटेन में उन लोगों पर किया जा रहा है जो खुद यह व्यक्ति लगाने के लिए इच्छा से आगे आ रहे हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.