Friday, May 27, 2022
-->
faarms join hands with reliance general insurance to provide insurance cover to farmers rkdsnt

किसानों को बीमा कवर देने के लिए FAARMS ने रिलायंस जनरल इंश्योरेंस से मिलाया हाथ

  • Updated on 1/28/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। एग्रिटेक स्टार्टअप एफएएआरएमएस (फार्म्स) ने अपनी मोबाइल ऐप के माध्यम से किसानों सहित ग्रामीण आबादी के लिए स्वास्थ्य और पशु बीमा प्रदान करने के लिए रिलायंस जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के साथ भागीदारी की है। फार्म्स भारत में किसानों के लिए बीज, कृषि रसायन, मशीनरी और पशु आहार से संबंधित सभी लागत सामग्रियों को उपलब्ध कराने वाला एक ई-कॉमर्स मंच है। कंपनी की मौजूदगी पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश में है। 

प्रदर्शनकारी युवाओं के समर्थन में राहुल गांधी ने पूछा - कौन कहता है ये अच्छे दिन हैं

अगस्त, 2021 में फार्म्स ने विस्तार के लिए मूल पूंजी के रूप में 20 लाख डॉलर जुटाए हैं। कंपनी के एक बयान के अनुसार इस सहयोग के तहत, न केवल किसान बल्कि कोई भी व्यक्ति फार्म्स ऐप पर स्वास्थ्य और पशु बीमा की एक श्रृंखला तक पहुंच और उसमें से इसका चयन कर सकता है।

भारती एयटेल में एक अरब डॉलर का निवेश करेगी गूगल, हिस्सेदारी भी खरीदेगी

फार्म्स (FAARMS) के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) तरणबीर सिंह ने कहा, ‘‘केवल एक एग्रिटेक फर्म होने से हमारा लक्ष्य ग्रामीण भारत की जरूरतों को पूरा करने वाली एक ग्रामीण टेक कंपनी बनना है और यह हमारे सपने के करीब एक कदम है।’’ 

सरकार ने TATA को हस्तांतरण से पहले Air India के करोड़ों का कर्ज, देनदारियां भी चुकाईं

बीमा उत्पादों की विशेषताओं और पेशकशों को किसानों की बीमा आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए विशेष रूप से अनुकूलित किया गया है। रिलायंस जनरल इंश्योरेंस के मुख्य वितरण अधिकारी आनंद सिंघी ने कहा, ‘‘भारत की लगभग 60 प्रतिशत आबादी अभी भी अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है, किसान हमारे समाज की रीढ़ हैं और उन्हें बीमा कवर के तहत लाना हमारी प्राथमिकता है।’’ 

प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तराखंड टोपी के बाद NCC रैली में पहनी सिख पगड़ी

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.