Thursday, Aug 18, 2022
-->
fadnavis can take oath as maharashtra cm with the help of shiv sena rebels

शिवसेना के बागियों के सहारे महाराष्ट्र के CM पद की शपथ ले सकते हैं फडणवीस

  • Updated on 6/29/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महाराष्ट्र की सियासी उठापठक के बीच भाजपा के नेता देवेंद्र फडणवीस एक जुलाई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। भाजपा अब राज्यपाल कोशियारी से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है। भाजपा को सदन में शिवसेना के बागी विधायकों को समर्थन हासिल है, साथ ही निर्दलीय विधायकों का भी साथ मिलने के आसार जताए जा रहे हैं।

सीएम पद छोड़ने के बाद उद्धव बोले- मेरे पास शिवसेना है, इसे कोई नहीं छीन सकता

ता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के फ्लोर टेस्ट कराने के फैसले के फौरन बाद उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने विधान परिषद की सदस्यता भी छोड़ दी है। पद से इस्तीफा देने के बाद उद्धव ने कहा, 'मेरे पास शिवसेना है, इसे कोई नहीं छीन सकता है।' फेसबुक लाइव पर अपने इस्तीफे का ऐलान करते हुए उद्धव ने कहा, 'किसके पास कितना संख्या बल है, इससे मुझे मतलब नहीं।'

महाराष्ट्र की ठाकरे सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का फैसला, उद्धव ने दिया इस्तीफा

उन्होंने बागियों से कहा, आपसे किस बात की नाराजगी? जिन्हें सब कुछ दिया वो साथ छोड़ गए, जिन्हें कुछ नहीं दिया वो साथ हैं। अपनी सरकार की खूबियां गिनाते हुए उद्धव ठाकरे ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का धन्यवाद भी किया। ठाकरे ने कहा कि हमारे कार्यकर्ताओं ने मेहनत की। 

भाजपा खेमे में जश्न शुरू, फडणवीस को दी बधाई 
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के इस्तीफे की घोषणा के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कई विधायक और वरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के मुंबई स्थित आवास पर एकत्रित हुए। शिवसेना के नेतृत्व वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार के गिरने पर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल समेत भाजपा के कई नेताओं ने एक-दूसरे को बधाई दी। उनमें से कई ने कहा कि फडणवीस जल्द ही राज्य की कमान संभालेंगे। पूर्व मंत्री और भाजपा नेता चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा, ‘‘आखिरकार सच्चाई की जीत हुई।’’ भाजपा विधायक नितेश राणे ने कहा, ‘‘फडणवीस हमेशा कहते थे कि वह सदन में लौटेंगे। अब, समय आ गया है। वह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में वापसी करेंगे।’’

भाजपा नेताओं का ठाकरे पर तंज, कहा: कर्म किसी को नहीं छोड़ता 
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने बुधवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद उन पर तंज कसा और इसके लिए उन्होंने उन्हें उनके ‘‘कर्मों’’ तथा शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की विरासत की याद दिलाई। ठाकरे ने उनके नेतृत्व वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार को बृहस्पतिवार को विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए राज्यपाल द्वारा दिए गए निर्देश पर रोक लगाने से उच्चतम न्यायालय के इनकार के बाद अपने इस्तीफे की घोषणा की। भाजपा महासचिव व महाराष्ट्र के प्रभारी सी टी रवि ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘कर्म किसी को भी नहीं छोड़ता है।’’ 

इस ट्वीट के साथ ही उन्होंने पालघर हिंसा से जुड़ी एक तस्वीर भी साझा की। रवि ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में इस्तीफा देने की उद्धव ठाकरे की घोषणा का मैं स्वागत करता हूं। वह उसी दिन समझ गए थे कि उन्होंने बहुमत खो दिया है जब शिवसेना के मंत्री एकनाथ शिंदे ने हिन्दुत्व से धोखा करने के लिए विद्रोह कर दिया था। उनके कार्यकाल ने साबित कर दिया है कि अवसरवादी गठबंधन नहीं टिकता है।’’ उन्होंने इसे महाराष्ट्र और छत्रपति शिवाजी महाराज की जीत बताया। 

भाजपा सचिव व पार्टी के आईटी विभाग के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा, ‘‘बालासाहेब ठाकरे ऐसे व्यक्ति थे जो सत्ता में न रहते हुए भी सरकारों को नियंत्रित कर सकते थे। वहीं, दूसरी तरफ उनके पुत्र अपनी ही पार्टी पर नियंत्रण नहीं रख सके, वह भी सत्ता में रहते हुए।’’ ठाकरे के इस्तीफे के बाद अब भाजपा शिवसेना के बागियों के समर्थन से राज्य में सरकार बना सकती है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री पद की कमान संभाल सकते हैं। वर्तमान विधानसभा में भाजपा के पास कुल 106 विधायक हैं। शिवसेना के बागियों और साथ ही कुछ निर्दलीय विधायकों के समर्थन से भाजपा सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है। सरकार बनाने के लिए 288 सदस्यीय राज्य विधानसभा में 144 विधायकों का समर्थन कारूरी है।     

शिवसेना के बागी विधायक गोवा हवाई अड्डे पहुंचे
महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट का कारण बने शिवसेना के बागी विधायक बुधवार मुंबई वापस जाने के क्रम में गुवाहाटी से एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में गोवा के डाबोलिम हवाई अड्डे पर पहुंचे। विधायक डाबोलिम हवाई अड्डे पर चार्टर्ड विमान के जरिये पहुंचे और विशेष बसों में सवार होकर पणजी के नजदीक डोना पाउला स्थित पंच सितारा होटल के लिए रवाना हो गए। हवाई अड्डा सूत्रों ने बताया कि विधायकों को लेकर विशेष विमान रात नौ बजकर 45 मिनट पर हवाई अड्डे पर उतरा। सूत्रों ने बताया कि इन बागी विधायकों के शाम से ही पहुंचने की उम्मीद की जा रही थी। इसलिए हवाई अड्डे और होटल की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। 

मोहम्मद जुबैर की शिकायत करने वाले का Twitter अकांउट डिलीट, जांच में जुटी दिल्ली पुलिस 

  •  

उन्होंने बताया कि होटल को छावनी में तब्दील कर दिया गया है और लोगों और उनके वाहनों की होटल के गेट पर ही गहन जांच की जा रही है। इससे पहले दिन में शिवसेना के बागी विधायकों का नेतृत्व कर रहे शिंदे ने गुवाहाटी से रवाना होने से पहले मां कामाख्या मंदिर में जाकर दर्शन किए थे। ये विधायक करीब एक हफ्ते से गुवाहाटी में डेरा डाले हुए थे। शिंदे के करीबी सहयोगी ने बताया कि बागी विधायकों का समूह गोवा के होटल में रुकेगा और बृहस्पतिवार की सुबह साढ़े नौ बजे मुंबई पहुंचेगा।  

मोदी सरकार ने 91 वर्षीय अटॉर्नी जनरल के. के. वेणुगोपाल का कार्यकाल बढ़ाया

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.