Saturday, Jan 25, 2020
family protested against construction of platform on tomb of the unnao victim by administration

उन्नाव रेप केस: पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा चबूतरा बनाये जाने का परिजनों ने विरोध किया

  • Updated on 12/10/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उन्नाव (Unnao) जिले के बिहार थाना क्षेत्र में जिंदा जलायी गई दुष्कर्म पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा करवाए जा रहे चबूतरे के निर्माण का परिजनों ने विरोध किया और कब्र पर लगायी गयी ईंटों को उखाड फेंका। प्रशासन ने सोमवार शाम कब्र पर निर्माण कार्य शुरू कराया था।

उन्नाव रेप केस: पीड़िता की मौत से सदमे में बहन, अस्पताल में हुई भर्ती

मांगे समय से पूरी न होने पर आत्मदाह करेंगे- पीड़िता की बहन
बिहार थाना प्रभारी विकास पांडेय ने बताया कि परिजनों के विरोध के बाद निर्माण कार्य रूकवा दिया गया है, कब्र पर भी सुरक्षा की व्यवस्था की गयी है। वहीं पीड़िता के पिता ने कहा कि जब तक मांगे पूरी नहीं हो जाती, तब तक निर्माण नहीं कराने दिया जायेगा। जिला अस्पताल में इलाज करवा रही पीड़िता की बड़ी बहन ने कहा कि मांगे समय से पूरी नहीं होने पर आत्मदाह करेंगे। मृतका के पिता नौकरी, शस्त्र लाइसेंस और आवास की मांग कर रहे हैं।

उन्नाव रेप कांड: पुलिस के आश्वासन के बाद शव दफन करने को राजी हुआ परिवार

25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दे चुका है प्रशासन
पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रशासन दे चुका है, कांग्रेस नेत्री पूर्व सांसद अन्नू टण्डन ने पांच लाख रुपये की सहायता और समाजवादी पार्टी ने एक लाख रुपये की सहायता दी है। इस मामले के एक आरोपी शुभम की मां ने मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। गौरतलब है कि उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 23 वर्षीय युवती को गुरुवार तड़के (पांच दिसंबर) रेलवे स्टेशन जाते वक्त रास्ते में पांच आरोपियों ने आग के हवाले कर दिया था। आरोपियों में से दो के खिलाफ पीड़िता ने बलात्कार का मामला दर्ज कराया था। 

योगी सरकार उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार को देगी मुआवजा, 1 घर और 25 लाख रुपए का ऐलान

पीड़िता की बहन के अचानक हुआ सीने में दर्द
बलात्कार पीड़िता के चाचा ने बताया कि घटना के बाद से पीड़िता की बहन अकेलापन महसूस कर रही थी। रविवार रात करीब 11:30 बजे उसने सीने में दर्द की शिकायत की जिसके बाद उसे सुमेरपुर अस्पताल ले जाया गया लेकिन वह अस्पताल बंद था।फिर उसे बीघापुर के एक अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे जिला अस्पताल रेफर किया। पीड़िता के परिवार वालों ने इलाज को लेकर संतोष व्यक्त किया है। जिला प्रशासन के अधिकारी भी अस्पताल पहुंचे और उन्होंने लड़की की तबीयत के बारे में जानकारी ली।  

comments

.
.
.
.
.