Tuesday, Apr 13, 2021
-->
famous classical music singer pandit jasraj passed away new jersey usa america rkdsnt

मशहूर शास्त्रीय संगीत गायक पंडित जसराज का निधन, संगीत जगत को बड़ा झटका

  • Updated on 8/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महान शास्त्रीय गायक पंडित जसराज का अमेरिका में दिल का दौरा पडऩे से सोमवार की सुबह निधन हो गया। कोरोना वायरस महामारी के कारण लॉकडाउन के बाद से 90 वर्षीय पंडित जसराज न्यूजर्सी में ही थे । उन्होंने आज सुबह आखिरी सांस ली । उनकी बेटी दुर्गा जसराज ने भाषा को यह जानकारी दी। दुर्गा ने कहा ,‘‘ बापूजी नहीं रहे ।’’ इसके अलावा वह कुछ नहीं बोल सकी। उनके परिवार में दुर्गा के अलावा पत्नी मधुरा के अलावा संगीतकार पुत्र शारंग देव हैं । मधुरा सुप्रसिद्ध फिल्मकार वी शांताराम की बेटी हैं। 

कांग्रेस ने मोदी सरकार के साथ फेसबुक पर भी बोला हमला, कहा- कुछ नहीं किया

मेवाती घराने के आखिरी मजबूत स्तंभ पंडित जसराज के परिवार ने एक बयान में कहा ,‘‘ बहुत दुख के साथ हमें सूचित करना पड़ रहा है कि संगीत मार्तंड पंडित जसराज जी का अमेरिका के न्यूजर्सी में अपने आवास पर आज सुबह 5 बजकर 15 मिनट पर दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ हम प्रार्थना करते हैं कि भगवान कृष्ण स्वर्ग के द्वार पर उनका स्वागत करें जहां वह अपना पसंदीदा भजन ‘ ओम नमो भगवते वासुदेवाय’ उन्हें सर्मिपत करें । हम उनकी आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना करते हैं ।’’     उन्होंने आगे कहा , ‘आपकी प्रार्थनाओं के लिये धन्यवाद । बापूजी जय हो ’ 

श्रम नीति के खिलाफ ट्रेड यूनियनों ने अमित शाह को लिखा पत्र, जताई नाराजगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक जताते हुए ट््वीट किया, ‘‘ पंडित जसराज जी के दुर्भाग्यपूर्ण निधन से भारतीय शास्त्रीय विधा में एक बड़ी रिक्तता पैदा हो गयी है। न केवल उनका संगीत अप्रतिम था बल्कि उन्होंने कई अन्य शास्त्रीय गायकों के लिए अनोखे मार्गदर्शक के रूप में एक छाप छोड़ी। उनके परिवार और समस्त विश्व में उनके प्रशंसकों के प्रति संवेदना। ओम शांति।’’ मोदी ने अपने ट््वीट के साथ पंडित जसराज के साथ अपनी कुछ पुरानी तस्वीरें भी ट््िवटर पर डालीं जिनमें वह उन्हें सम्मानित कर रहे हैं । 

फेसबुक-व्हाट्सऐप प्रकरण : माकपा ने की JPC जांच की मांग

अपने आठ दशक से अधिक के संगीतमय सफर में पंडित जसराज को पद्म विभूषण (2000) , पद्म भूषण (1990) और पद्मश्री (1975) जैसे सम्मान मिले । पिछले साल सितंबर में सौरमंडल में एक ग्रह का नाम उनके नाम पर रखा गया था और यह सम्मान पाने वाले वह पहले भारतीय कलाकार बने थे । इंटरनेशनल एस्ट्रोनामिकल यूनियन :आईएयू: ने‘माइनर प्लेनेट’2006 वीपी 32 :नंबर 300128: का नामकरण पंडित जसराज के नाम पर किया था जिसकी खोज 11 नवंबर 2006 को की गई थी। 

सरकारी विभाग के भ्रष्टाचार की शिकायतों की जांच को लेकर नाखुश है CVC

इस साल जनवरी में अपना 90वां जन्मदिन मनाने वाले पंडित जसराज ने नौ अप्रैल को हनुमान जयंती पर फेसबुक लाइव के जरिये वाराणसी के संकटमोचन हनुमान मंदिर के लिये दी थी । इसके अलावा उन्होंने अपनी बेटी और प्रोड्यूसर दुर्गा की संगीतमय वेब सीरिज ‘उत्साह’ में भी भाग लिया था जो लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया पर आयोजित की जा रही है।
 

बॉलीवुड फिल्म 'दृश्यम’ के निर्देशक निशिकांत कामत नहीं रहे, जॉन के थे गहरे दोस्त

बता दें कि पंडित जसराज का जन्म 28 जनवरी 1930 को हुआ था। जब वह सिर्फ 4 साल के थे, उनके पिता पंडित मोतीराम का देहांत हो गया। इसके बाद बड़े भाई प्रताप नारायण ने जसराज का पालन पोषण किया। वैसे पंडित जसराज को उनके पिता ने बेहतरीन शिक्षा दी थी, लेकिन बड़े भाई ने तबले की संगत के साथ उनकी ट्रेनिंग शुरू की। पंडित जसराज ने 14 की आयु से सिंगर के रूप में प्रशिक्षण शुरू किया, इससे पहले वह तबला वादक ही थे।

प्रशांत भूषण मामला : जजों, वकीलों ने बार और पीठ के बीच सौहार्दपूर्ण रिश्तों की वकालत की

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.