Monday, Jan 27, 2020
famous Sunday Book Market of Daryaganj was closed for ever After the High Court order

हाईकोर्ट के आदेश के बाद बंद तो हुआ दरियागंज बुक मार्केट, लेकिन खड़े हुए कई सवाल

  • Updated on 8/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली(Delhi) में जब भी कोई सस्ते में बुक खरीदना चाहता था तो सीधे दरियागंज में संडे को लगने वाली बुक मार्केट की ओर रुख करता था, लेकिन अब वहां पर केवल सूनी सड़कें देखने को मिलेंगी। दरियागंज में लगने वाली संडे बुक मार्केट दशकों से पुरानी दिल्ली की पहचान है लेकिन अब हाईकोर्ट(Highcourt) के एक आदेश के बाद यह पहचान मिट चुकी है। दिल्ली ट्रैफिक(Traffic police) पुलिस की एक याचिका में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने इस मार्केट को बंद करने का आदेश दिया है। हाईकोर्ट के इस आदेश ने बहुत से सवालों को भी खड़े कर दिए हैं।

अनुच्छेद 370 हटते ही जम्मू-कश्मीर में इस कंपनी ने हेलमेट फैक्ट्री लगाने की योजना बनाई

आपको बता दें यह मार्केट हर रविवार को डिलाइट और गोलचा सिनेमा के बीच फुटपाथ में लगती थी। पुलिस(Police) ने अपनी याचिका में कहा था कि दरियागंज का इलाका राजधानी के सबसे भीड़ भाड़ वाले इलाके में गिना जाता है और रविवार को अन्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा भीड़ होती है जिससे अक्सर अप्रिय घटना की आशंका बनी रहती है। 

Related image

डाक विभाग में दसवीं पास के लिए निकलीं बंपर नौकरियां, यहां जानें डिटेल

पुलिस का कहना था कि फुटपाथ में बाजार के लगने से हमेशा जाम की स्थिति पैदा हो जाती है। इस याचिका के बाद हाईकोर्ट ने दिरयागंज के इस पूरे इलाके को नो स्क्वेटिंग और नो हॉकिंग जोन घोषित कर दिया है जिसके बाद अब वहां बुक मार्केट नहीं लगाई जा सकती। जहां एक ओर दिल्ली ट्रैफिक पुलिस को कोर्ट के इस आदेश से राहत मिली है वहीं इसी आदेश में बहुत सारे सवालों को भी खड़ा कर दिया है।

Image result for दरियागंज बुक मार्केट

Xiaomi अगस्त में लॉन्च करेगी 64 मेगापिक्सल कैमरे वाला स्मार्टफोन

दरियागंज में यह मार्केट पिछले 20 सालों से लग रही थी, सरकार के इस आदेश के बाद दुकानदारों के सामने रोजी रोटी का भी सवाल खड़ा हो गया है। लोगों का कहना है कि सरकार को यह दुकान ही हमारी जीवन का आधार थी लेकिन कोर्ट और सरकार ने इस बारे में कुछ नहीं सोचा। बता दें कि इसमें कम से कम 250 दुकाने लगती थी। दुकानदारों का कहना है कि कोर्ट को कम से कम कुछ दिनों का मौका देना चाहिए था।

इस बारे में जब अधिकारियों से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हम विक्रताओं की परेशानियों को समझ रहे है इसलिए हम बाजार को दूसरी जगह पर शिफ्ट करने का प्लान कर रहे हैं। ऐसी ही एक कार्रवाई पिछले साल जनवरी में भी हुई थी लेकिन कुछ दिनों के बाद यह फिर से शुरू हो गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.