Saturday, May 15, 2021
-->
farhan-khan-talks-about-sajid-metoo-movement

#Metoo: फरहान अख्तर ने जताई शर्मिंदगी, कहा- मैं अपने भाई साजिद को पहचान नहीं पाया

  • Updated on 11/26/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जैसा कि हम सब जानते हैं #MeToo कैंपेन के तहत बॅालीवुड इंडस्ट्री में यौन उत्पीड़न को लेकर कई हैरान कर देने वाले चेहरे सामने आए हैं। वहीं इस सूची में मशहूर फिल्म मेकर साजिद खान का नाम भी शामिल है जिनपर कई महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जिसपर कुछ दिन पहले फराह अख्तर ने भी अपनी प्रतिक्रिया रखी थी। उन्होंने इसे पूरे मामले पर अपने परिवार के लिए बेहद दुख की घड़ी बताई थी।

Navodayatimes

वहीं हाल ही में 'वी द विमेन' कार्यक्रम में पत्रकार बरखा दत्त से खास बातचीत के दौरान अपने चचेरे भाई साजिद पर लगे आरोपों को लेकर भी फरहान ने चर्चा की। उन्होंने कहा कि 'यह हमारे लिए बिलकुल चौकाने जैसा था। क्योंकि जब यह आपके परिवार के सदस्य के साथ होता है, तो आप भी अपराध के एक निश्चित स्तर को महसूस करते हैं।' 

तलाक के 4 साल बाद रितीक ने सुजैन के लिए लिखा ये प्यारा नोट

फरहान ने आगे कहा 'हर बार जब ऐसा कुछ सार्वजनिक जीवन में होता है, तो मैं अपनी राय रखने में बहुत मुखर रहा हूं। जब मेरे परिवार के किसी सदस्य के खिलाफ आरोप लगे, तो मुझे लगा कि अब चुप्पी साधे रहना बहुत, बहुत ही बड़ा ढोंग होगा।'

इस दौरान जब बरखा ने पूछा कि क्या सिर्फ माफी मांगने पर्याप्त होगा क्योंकि यौन उत्पीड़न एक बहुत बड़ा अपराध है। तब जवाब में फरहान ने कहा, 'बिल्कुल नहीं। इस तरह की चीजें अदालत के दायरे में ले जाने की जरूरत है। ये वे चीजें हैं, जिसका साजिद को सामना करना ही होगा। माफी मांगना शुरुआत करने के लिए एक बड़ा कदम है। यह कहना 'मैंने जो किया उसके बारे में मुझे खेद है' एक बड़ा कदम है। इससे एक व्यक्ति बहुत बेहतर महसूस कर सकता है।'
     
उन्होंने यह भी बताया कि 'यह सच यह है कि मैं इसके बारे में बिल्कुल भी नहीं जानता था। अगर मुझे पहले पता होता तो ये कहानी बाहर आने से पहले मैं इसके बारे में बात करता। यह निश्चित ही अपराध था, यह कैसे चल रहा था और मुझे नहीं पता। ये विपरीत तरह की भावनाएं थीं।'

 शाहरुख खान को कलिंग सेना की धमकी, 17 साल पहले हुई थी ये गलती
    

फरहान ने कहा कि आखिरकार यह एक महिला का निर्णय होता है कि कब वो अपनी कहानी बताना चाहती है। उसे ऐसा माहौल दिया जाना चाहिए ताकि वह अपनी बात रख सके। अगर किसी ने किसी महिला के साथ बुरा व्यवहार किया है और उसने 10, 20 या 30 साल तक इसके बारे में बात नहीं की है, तो यह उसका विशेषाधिकार है कि वह कब इसके बारे में बोलना चाहती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.