Sunday, Apr 18, 2021
-->
farm laws delhi cm arvind kejriwal to support farmers will give lunch to farmers pragnt

Farm Laws: किसानों के समर्थन में अरविंद केजरीवाल, किसान नेताओं को देंगे लंच

  • Updated on 2/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र सरकार (Central Government) के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ चल रहा किसानों का आंदोलन लंबा खिंचता चला जा रहा है। दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के आंदोलन को 87 दिन हो चुके हैं लेकिन किसानों और केंद्र सरकार के बीच अभी तक कोई समाधान नहीं निकल पाया है। इस बीच दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने बड़ा ऐलान किया है।

Red Fort Violence: दिल्ली पुलिस ने जारी की हिंसा में शामिल 200 लोगों की तस्वीरें

किसान नेताओं के साथ बैठक करेंगे CM केजरीवाल
सीएम केजरीवाल ने कहा कि वह कल यानी रविवार को किसान नेताओं को लंच देंगे। इस दौरान वह तीनों कृषि कानूनों को लेकर किसान नेताओं के साथ चर्चा करेंगे। बता दें कि अरविंद केजरीवाल खुलकर किसान आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार, सीएम केजरीवाल किसान संगठनों के बड़े नेताओं के साथ दिल्ली विधानसभा में बैठक करेंगे। इस बैठक में किसानों से कृषि कानून और अन्य मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली सरकार ने बनाया ये एक्शन प्लान

किसान नेताओं को देंगे लंच
सूत्रों की मानें तो बैठक के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किसान नेताओं के लिए लंच का आयोजन किया है। बता दें कि इस बैठक में सभी बड़े किसान नेता और आम आदमी पार्टी के नेता भी शिरकत करेंगे। आपको बता दें कि शुरुआत से ही अरविंद केजरीवाल किसानों का समर्थन कर रहे हैं।

चांदनी चौक के हनुमान मंदिर पर BJP के बाद अब AAP नेताओं ने किया हनुमान चालीसा का पाठ

गाजीपुर में दो माह आगे बढ़ाया आंदोलन
आपको बता दें कि गाजीपुर बॉर्डर पर कम होती किसानों की संख्या को लेकर किसान संगठनों में भी बैचेनी है। शुक्रवार को यूपी गेट पर भारतीय किसान यूनियन ने संगठन से जुड़े जिलाध्यक्षों व अन्य पदाधिकारियों के साथ बैठक की। जिसमें फसल कटाई को ध्यान में रखते हुए, आंदोलन की रणनीति पर चर्चा हुई। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत बोले कि सरकार के रुख से लगता है कि किसानों को अबकी बार की फसल का बलिदान देना ही होगा।

टूलकिट मामले में पूर्व न्यायाधीशों ने राष्ट्रपति से की निष्पक्ष जांच कराने की अपील

राकेश टिकैत ने कहा ये
मंच को संबोधित करते हुए भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान सोच रहे थे कि 2 महीने में सरकार शायद मान जाएगी। मगर ऐसा हुआ नहीं। अब किसान को अगले 60 दिनों का प्लान बनाकर चलना होगा। आंदोलन स्थल पर गर्मी के मुताबिक टेंट, पंखे, कूलर व पानी की व्यवस्था करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार सोच रही थी कि फसल कटाई का वक्त आते ही किसान वापस लौट जाएगा। हमें उसकी यह गलतफहमी भी दूर करनी है। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.