Wednesday, Jan 26, 2022
-->
Farmer leaders split Chauduni said personal to Tikets movement till 2 October ALBSNT

किसान नेताओं में फूट! टिकेत के 2 अक्टूबर तक आंदोलन चलने को चढ़ूनी ने बताया निजी

  • Updated on 2/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बीते तीन महीने से केंद्र सरकार के लिये परेशानी का सबब बने किसान आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच किसान आंदोलन के अगुआ नेताओं में फूट पड़ने के संकेत मिलने शुरु हो गए है। दरअसल हरियाणा में भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने एक बयान दिया है जिसमें उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत के उस बयान से दूरी बना ली जिसमें उन्होंने कहा था कि 2 अक्टूबर तक यह आंदोलन चलेगा। 

घाटी में आतंकी हमले पर महबूबा का बड़ा बयान,कहा- सरकार करें पाकिस्तान से बातचीत

बता दें कि चढ़ूनी ने कहा कि राकेश टिकैत के बयान से संयुक्त किसान मोर्चा ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है। लिहाजा इस पर राय तभी बनेगी जब मोर्चा में विस्तार से बात हो पाएगी। हालांकि उन्होंने कहा कि जहां-जहां भी चुनाव होंगे वहां-वहां किसान अपना विरोध जताने पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में भी चुनाव होने वाले है। बीजेपी के विरोध में जनता को जागरुक करेंगे।

लव जिहाद पर बोले मेट्रो मैन, केरल में हिंदू लड़कियों को शादी के नाम पर बरगलाया जा रहा

उन्होंने कहा कि पंजाब के निकाय चुनाव के साफ संकेत को बीजेपी नहीं नकार सकती है। उन्होंने कहा कि पंजाब में हस सभी किसानों ने मिलकर सरकार को संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिये कि कृषि कानून को वापस ले। साथ ही एमएसपी पर कानून बनायें। उन्होंने किसान नेताओं को भी नसीहत दी कि पंजाब,हरियाणा में जागरुक किसान है,जो नए कृषि कानून से होने वाले नुकसान से अवगत है। लिहाजा यहां समय बरबाद करने से अच्छा होगा कि देश के अलग-अलग हिस्से में किसानों को उनके अधिकार को लेकर बतायें।

 


 

comments

.
.
.
.
.