Monday, Jan 24, 2022
-->
farmer-leaders-will-write-a-letter-to-the-pm

पीएम को खत लिखेंगे किसान नेता, बाकी मांगों पर जानेंगे सरकार का रूख

  • Updated on 11/21/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। तीन कृषि कानूनों की मांग को लेकर शुरू हुआ किसान आंदोलन, अब केवल कृषि कानूनों की वापसी तक सीमित नहीं रहा। संयुक्त किसान मोर्चा ने अपनी बाकी मांगों की फेहरिस्त तैयार ली है। जिसे केन्द्र सरकार को भेजा जाएगा। केन्द्र सरकार के रूख के आधार पर संयुक्त किसान मोर्चा तय करेगा कि आगे आंदोलन की दशा और दिशा क्या होगी। सिंघु बॉर्डर पर रविवार को इस संबध में एक बैठक का आयोजन हुआ। जिससे वापस लौटने के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के गाजीपुर बॉर्डर के प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा ने बैठक के बारे में जानकारी दी। 

पीएम को खत लिखेंगे किसान 
संयुक्त किसान मोर्चा गाज़ीपुर बॉर्डर के प्रवक्ता किसान नेता जगतार सिंह बाजवा ने बताया कि रविवार को सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में सभी किसान संगठनों में सहमति बनी कि प्रधानमंत्री द्वारा जो किसान बिलो को वापस लेने की घोषणा की गई है। उसके साथ एमएसपी की गारंटी व अन्य किसान मुद्दों का जिक्र नहीं किया गया। इसे लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा जाएगा। जिसके माध्यम से किसानों के अन्य मुद्दे उठाए जाएंगे। 
 

खत में इन मुद्दों का होगा जिक्र
पीएम को लिखे जाने वाले खत में एमएसपी गारंटी कानून, बिजली बिल, पराली, शहीद किसान, देशभर में किसानों पर दर्ज मुकदमे, लखीमपुर खीरी कांड के दोषी मंत्री की बर्खास्तगी, डीजल रेट आदि के संबंध में प्रधानमंत्री को अवगत कराया जाएगा।
 

27 नवंबर तक जवाब का इंतजार करेगा किसान मोर्चा
जगतार सिंह बाजवा ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा के सभी कार्यक्रम अभी यथावत रहेंगे और 27 नवंबर को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक सिंघु बॉर्डर पर होगी। जिसमें सरकार द्वारा प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र पर सरकार के रुख को देखते हुए संयुक्त किसान मोर्चा आगामी रणनीति बनाएगा।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.