Monday, Mar 01, 2021
-->
farmer-protest-rahul-gandhi-mahatma-gandhi-tractor-rally-bjp-sobhnt

राहुल गांधी ने फिर की मोदी सरकार से कृषि कानून वापस लेने की मांग

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi)) ने बुधवार को केंद्र सरकार से फिर आग्रह किया कि तीनों ‘कृषि विरोधी कानूनों’ को वापस लिया जाए।  उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के एक कथन का हवाला देते हुए ट्वीट किया, विनम्र तरीके से आप दुनिया हिला सकते हैं महात्मा गांधी। एक बार फिर मोदी सरकार से अपील है कि तुरंत कृषि-विरोधी कानून वापस लिए जाएं।     
 

Republic Day: बंगाल BJP अध्यक्ष दिलीप घोष ने फहराया उल्टा तिरंगा, बाद में दी सफाई

महात्मा गांधी के कथन का  उल्लेख किया 
कांग्रेस नेता ने मंगलवार को हुई हिंसा की पृष्ठभूमि में महात्मा गांधी के कथन का उल्लेख किया। गौरतलब है कि किसान समूहों की ट्रैक्टर परेड के दौरान कई स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हुई। इसके बाद पुलिस ने किसान समूहों पर आंसू गैस के गोले छोड़े तथा लाठीचार्ज किया। 

किसान आंदोलन के बीच मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला, नारियल की खेती करने वालों को दिया तोहफा

प्रदर्शनकारियों ने बैरिकेड तोड़े
दिल्ली की सीमा पर कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों ने अवरोधक तोड़ दिए। ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित मार्ग से हटकर प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह मंगलवार को लालकिले में घुस गया और राष्ट्रीय राजधानी स्थित इस ऐतिहासिक स्मारक के कुछ गुंबदों पर अपने झंडे लगा दिए थे।

फेसबुक पर दी सफाई
सिद्धू ने फेसबुक पर पोस्ट किये गए एक वीडियो में दावा किया कि वह कोई योजनाबद्ध कदम नहीं था और उन्हें कोई साम्प्रदायिक रंग नहीं दिया जाना चाहिए जैसा कट्टरपंथियों द्वारा किया जा रहा है। सिद्धू ने कहा कि नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रतीकात्मक विरोध दर्ज कराने के लिए, हमने ‘निशान साहिब’ और किसान झंडा लगाया और साथ ही किसान मजदूर एकता का नारा भी लगाया। उन्होंने‘निशान साहिब’की ओर इशारा करते हुए कहा कि झंडा देश की ‘विविधता में एकता’ का प्रतिनिधित्व करता है।       

किसान ट्रैक्टर परेड : लालकिले में होता नुकसान, उससे पहले सजग हुई ASI

अराजकता स्वीकार नहीं होगी

निशान साहिब’सिख धर्म का एक प्रतीक है जो सभी गुरुद्वारा परिसरों में लगा देखा जाता है। उन्होंने कहा कि लालकिले पर ध्वज-स्तंभ से राष्ट्रीय ध्वज नहीं हटाया गया और किसी ने भी देश की एकता और अखंडता पर सवाल नहीं उठाया। विभिन्न दलों के नेताओं ने लाल किले पर हिंसा की घटना की निंदा की है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने घटना का एक वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया कि वह शुरुआत से ही किसान प्रदर्शन का समर्थन कर रहे हैं लेकिन अराजकता स्वीकार नहीं कर सकते।     

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.