farmers-angry-on-manohar-lal-khattar-tweet

फसल का ब्यौरा पोर्टल पर डालने संबंधी मुख्यमंत्री के ट्वीट पर बिफरे किसान 

  • Updated on 7/27/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar lal khattar) ने शुक्रवार की शाम ट्वीट कर किसानों को गन्ने की पैदावार से संबंधित पूरा डाटा चार दिन के भीतर ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा’ पर डालने की अपील किए जाने के बाद किसान संगठन सरकार के खिलाफ बिफर गए हैं ।    

किसानों ने एक बार फिर सरकार के विरूद्ध मोर्चा खोलते हुए सरकार से यह आदेश वापस लेने की मांग की है। वहीं इस ट्वीट के बाद मुख्यमंत्री विपक्ष के निशाने पर भी आ गए है। सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी (gurnaam singh) ने कहा कि किसानों द्वारा इससे पहले सरसों का पूरा ब्यौरा पोर्टल पर डाला गया था और इसके बावजूद सरकार ने खरीद नहीं की।  

उन्होंने बताया कि किसानों ने जब प्रदर्शन किया तब सरकार की नींद टूटी और खरीद शुरू हुई। चढूनी ने कहा कि किसानों को गन्ने का ब्यौरा पोर्टल पर डालने के लिए बहुत कम समय दिया गया है और इसे बढ़ाना जरूरी है क्योंकि ज्यादातर किसानों के पास इंटरनेट आदि की सुविधा नहीं है और जहां चीनी मिलें चल रही हैं वहां भी इंटरनेट की उचित व्यवस्था नहीं है।  

बता दें कि हरियाण सरकार ने किसानों के हित में गन्ने की फसल का ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाने का निर्णय लिया है। गन्ना उत्पादक किसानों को 31 जुलाई तक हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड द्वारा स्थापित पोर्टल  पर अपनी गन्ने की फसल का ब्यौरा अपलोड करवाने के निर्देश दिए गए हैं।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.