Monday, Mar 01, 2021
-->
farmers-movement-negotiations-between-farmer-government-formalities-result-zero-rkdsnt

औपचारिकता भर रही किसान और सरकार के बीच वार्ता, नतीजा सिफर

  • Updated on 1/15/2021

नई दिल्ली, 15 जनवरी (नवोदय टाइम्स)। कृषि कानूनों पर चर्चा के लिए सरकार और आंदोलनरत किसानों की नौवें दौर की वार्ता औपचारिक ही साबित हुई। न किसानों ने अपना इरादा बदला और न ही सरकार नरम पड़ी। बातचीत का नतीजा सिफर (शून्य) रहा। हालांकि वार्ता में किसानों ने आवश्यक वस्तु अधिनियम में किए गए संशोधनों को रद्द करने पर जोर दिया, लेकिन सरकार की ओर से इस पर कुछ जवाब नहीं मिला। दोनों पक्ष अब अगले दौर की वार्ता के लिए 19 जनवरी को एक बार फिर  आमने-सामने बैठेंगे।

ऑनलाइन लोन ऐप को लेकर कोर्ट ने मोदी सरकार, RBI से मांगा जवाब

तीन केंद्रीय मंत्रियों के साथ शुक्रवार को विज्ञान भवन में हुई नौवें दौर की वार्ता में प्रदर्शनकारी किसान तीनों नए विवादित कृषि कानूनों को निरस्त करने की अपनी मांग पर अड़े रहे जबकि सरकार ने किसान नेताओं से उनके रुख में लचीलापन दिखाने की अपील की एवं कानून में जरूरी संशोधन के संबंध अपनी इच्छा जताई। बैठक के बाद किसान नेता शिव कुमार शर्मा (कक्का जी) ने बताया कि वार्ता तीनों कानूनों को रद्द करने पर ही सीमित रही। लेकिन चर्चा आवश्यक वस्तु अधिनियम में किए गए संशोधन पर हुई।

कृषि मंत्री तोमर बोले- किसान संगठन ठोस मसौदा बनाकर सरकार को दें तो...

उन्होंने कहा कि हमारी दलील थी कि यह संशोधन किसान हित में नहीं, केवल उद्योगपतियों औरकारोबारियों को ध्यान में रख कर किया गया। किसानों ने पूरे कानून की बजाए उसमें किए गए संशोधन को रद्द कर पुराने कानून को बहाल करने पर जोर दिया। लेकिन सरकार की ओर से इस पर कुछ जवाब नहीं मिला। वहीं सूत्रों का कहना है कि वार्ता के दौरान कुछ ऐसे पल भी आए, जब किसानों ने काफी तल्खी से अपनी बात कही।

यूपी में AAP विधायक सोमनाथ भारती को एक मामले में मिली जमानत

खासकर किसान आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं या जरूरी सामान सप्लाई कर रहे पंजाब के ट्रांसपोर्टरों के यहां केंद्रीय एजेंसियों द्वारा नोटिस भेजने और छापेमारी के मुद्दे पर, लेकिन सरकार की ओर से नरम रुख दिखाया गया और मामले को दिखवाने का आश्वासन दिया गया। किसान नेता जोगिन्दर ङ्क्षसह उग्रहान ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि किसानों यूनियनों ने सरकार से तीनों कानून रद्द करने का अपना आग्रह दोहराया, लेकिन वह ऐसा करने को अनिच्छुक दिखी।

व्हाट्सऐप की नई नीति के खिलाफ दायर याचिका पर जज ने सुनवाई से खुद को किया अलग


बैठक में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र ङ्क्षसह तोमर, रेलवे, वाणिज्य एवं खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्य मंत्री तथा पंजाब से सांसद सोम प्रकाश के साथ 40 किसान संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए। बैठक में हिस्सा लेने वाली अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की सदस्य कविता कुरूंगटी ने कहा कि किसी समिति की मध्यस्थता की बजाए सरकार और किसान संगठनों ने सीधी वार्ता की प्रक्रिया जारी रखने की प्रतिबद्धता व्यक्त की।

शरद पवार बोले- धनंजय मुंडे मामले में जांच के निष्कर्ष का इंतजार करेगी NCP

मालूम हो कि इस मसले के समाधान के लिए सुप्रीमकोर्ट ने पिछले दिनों चार सदस्यीय कमेटी गठित की है। भाकियू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार ने हमसे कहा कि समाधान बातचीत से निकाला जाना चाहिए, अदालत में नहीं। सभी का समान मत है कि कुछ समाधान की संभावना है। इससे पहले, आठ जनवरी को हुई वार्ता बेनतीजा रही थी ।

उप्र विधान परिषद चुनाव: BJP उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, अरविंद शर्मा को मिला मौका

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.