Friday, Apr 23, 2021
-->
farmers movement yogendra yadav says agricultural laws tails come out now elephants rkdsnt

कृषि कानूनों पर योगेंद्र यादव बोले- अभी तो पूंछ निकली है, हाथी निकलना अभी बाकी है

  • Updated on 1/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली के निकट सिंघु बॉर्डर पर एक महीने से ज्यादा समय से प्रदर्शन कर रहे किसानों के तेवर दो मांगें मान लेने के बावजूद शांत नहीं हुए हैं। किसानों का कहना है केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर उनकी मांगें केंद्र सरकार द्वारा स्वीकार किए जाने तक वे नए साल का जश्न नहीं मनाएंगे। किसान आंदोलन में अहम भूमिका निभा रहे स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव ने कृषि कानूनों पर कहा है कि अभी तो पूंछ निकली है, हाथी निकलना अभी बाकी है।

CDSO कमेटी ने कोविशील्ड के इमरजेंसी इस्तेमाल को दी मंजूरी

मीडिया से बात करते हुए योगेंद्र ने कहा, 'किसानों के ये आंदोलन अब निर्णायक दौर में है, 30 तारीख की वार्ता के बारे में मैं इतना ही कहूंगा कि अभी तो पूंछ निकली है, हाथी निकलना अभी बाकी है। MSP को क़ानूनी अधिकार मिलने और तीनों कृषि क़ानूनों को खारिज करने पर सरकार टस से मस नहीं हुई है।'

केजरीवाल सरकार ने नए साल के मौके पर पानी बिल माफी योजना की मियाद बढ़ाई

इससे पहले पंजाब के रोपड़ से आए किसान हरजिंदर सिंह ने कहा, ‘‘सरकार जब तक हमारी मांगें नहीं मान लेती, तब तक हमारे के लिए कोई नया साल नहीं है।’’  किसानों का कहना था कि बुधवार को हुई बातचीत में सरकार ने बिजली बिल में बढ़ोतरी और पराली जलाने पर जुर्माना लगाने से जुड़ी ङ्क्षचताओं का निदान करने का भरोसा दिया, लेकिन यह जश्न मनाने के लिए काफी नहीं है। उल्लेखनीय है कि प्रदर्शनकारी किसान तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी दिए जाने की मांग कर रहे हैं। 

पूर्व नौकरशाहों ने यूपी को बताया ‘‘घृणा की राजनीति का केंद्र’’, गिनाए सिलसिलेवार मुद्दे

पंजाब के होशियापुर से पहुंचे हरमेश सिंह ने कहा, ‘‘सरकार जिन दो मांगों पर सहमत हुई है वो अभी कानून नहीं हैं। अभी इनका असर नहीं होना था। हम सरकार के पास स्पष्ट मांगों के साथ गए हैं। वे अपने हिसाब से चीजें तय नहीं कर सकते। उन्हें हमारी सारी मांगों को सुनना होगा।’’ सिंघु बॉर्डर पर मौजूदा ज्यादातर किसान लंबे समय से अपने परिवारों से दूर हैं और नए साल के मौके पर भी दूर रहेंगे, लेकिन उन्हें इससे कोई शिकायत नहीं है। 

मध्यप्रदेश में शिवराज मंत्रिमंडल का तीसरी बार होगा विस्तार, सिंधिया समर्थकों को मिलेगी तवज्जो!

हरजिंदर ने कहा, ‘‘हमें अपने परिवार की याद आ रही है, लेकिन ये किसान भी हमारा परिवार हैं। ये सभी हमारे भाई हैं।’’ जालंधर के निवासी गुरप्रीत हैयर और भटिंडा के रहने वाले प्रताप सिंह ने फैसला किया है कि वह हर साल की तरह इस बार भी नववर्ष के अवसर पर ‘सेवा’ करेंगे, लेकिन इस बार वे किसान के बीच करेंगे।     

किसानों पर हरियाणा राजस्थान सीमा पर पुलिस ने की पानी की बौछार, आंसू गैस के गोले छोड़े

 

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.