Wednesday, Aug 04, 2021
-->
farmers of punjab burnt effigies of pm modi in place of ravan dussehra rkdsnt

कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने रावण की जगह पीएम मोदी के जलाए पुतले

  • Updated on 10/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब में रविवार को विभिन्न स्थानों पर किसानों ने कृषि कानूनों के विरोध में केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पुतले जलाये। प्रदर्शनकारियों ने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों को ‘काला कानून’ बताया और भाजपा नीत राजग सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। उन्होंने इन कानूनों को वापस लेने की मांग की। अमृतसर में किसानों ने किसान मजदूर संघर्ष सिमति के तत्वावधान में मोदी का पुतला जलाया। 

संजय राउत बोले- फडणवीस को अब कोरोना के हालात की गंभीरता का एहसास होगा

भारतीय किसान यूनियन (दाकुंडा) के महासचिव जगमोहन सिंह ने बताया कि राज्य में कई स्थानों पर किसानों ने केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री के पुतले फूंके। जम्हूरी किसान सभा के महासचिव कुलवंत सिंह संधू ने बताया कि उनके संगठन ने जालंधर के फिल्लौर और आदमपुर में पुतले जलाये। 

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास भी कोरोना वायरस से हुए संक्रमित

प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र पर कुछ कॉरपोरेट घरानों के इशारे पर कृषि क्षेत्र को ‘बर्बाद’ करने का प्रयास करने का आरोप लगाया। किसानों ने वैसे तो रेल रोको’ आंदोलन में ढील दे दी है, लेकिन उन्होंने राज्य में ईंधन केंद्रों, टोल प्लाजा और भाजपा नेताओं के निवासों के बाद धरना जारी रखा। 

BJP के फ्री वैक्सीन के चुनावी वादे पर AAP ने बिहार की जनता को चेताया

किसानों ने आशंका प्रकट की कि नये कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य व्यवस्था खत्म करने का मार्ग प्रशस्त करेंगे और उन्हें बड़े कॉरपोरेट घरानों के ‘रहमोकरम’ पर छोड़ देंगे। सरकार कह रही है कि हाल ही संसद से पारित कानूनों से उनकी आय बढ़ेगी, उन्हें बिचौलियों से मुक्ति मिलेगी तथा कृषि में नयी प्रौद्योगिकी आएगी।

सीएम अमरिंदर सिंह के बेटे को ED ने किया तलब, कांग्रेस ने टाइमिंग पर उठाए सवाल

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.