Friday, May 07, 2021
-->
farmers'''''''' organization again proclaims bharat bandh will protest against these issues prshnt

किसान संगठन ने फिर किया भारत बंद का एलान, कृषि कानून के अलावा इन मुद्दों के खिलाफ भी करेंगे प्रदर्शन

  • Updated on 3/11/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली की सीमाओं पर किसान संगठन तीन महिनों से ज्यादा समय से नए कृषि कानून (New Farm Law) के खिलाफ आदोलन कर रहे हैं। ऐसे में केन्द्र सरकार के तीन कृषि कानूनों (Agriculture Law) के खिलाफ 26 मार्च को अपने आंदोलन के चार महीने पूरे होने के मौके पर भारत बंद का आह्वान किया है। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता बूटा सिंह (Buta Singh) बुर्जगिल ने बुधवार को कहा कि किसान और व्यापार संघ मिलकर 15 मार्च को पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि और निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। 

बूटा सिंह ने सिंघू बॉर्डर पर कहा कि हम आंदोलन के चार महीने पूरे होने के मौके पर 26 मार्च को पूर्ण रूप से भारत बंद का पालन करेंगे। उन्होंने कहा, शांतिपूर्ण बंद सुबह से शाम तक रहेगा और किसान 19 मार्च को 'मंडी बचाओ-खेती बचाओ' दिवस मनाएंगे। 

हरियाणा : विश्वास मत में भाजपा-जजपा सरकार को 5 निर्दलीय और कांडा का भी मिला साथ

नरेंद्र टिकैत ने कही ये बात
बता दें कि किसान नेता महेन्द्र सिंह टिकैत के पुत्र नरेंद्र टिकैत ने कहा है कि केन्द्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ किसान मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के शेष साढ़े तीन साल तक दिल्ली की सीमाओं पर बैठे रहने को तैयार हैं। नरेंद्र उनके पिता द्वारा 1986 में गठित भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) में किसी आधिकारिक पद पर नहीं है और ज्यादातर परिवार की कृषि गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, लेकिन किसानों से संबंधित मुद्दों पर वह उतने ही मुखर है जितने कि उनके दो बड़े भाई नरेश और राकेश टिकैत। 

किसान नेता नरेश टिकैट-राकेश टिकैत के बाद नरेंद्र टिकैत ने बोला मोदी सरकार पर हमला 

आंदोलन का पिछले 100 दिनों से अधिक समय से नेतृत्व 
नरेश टिकैत और राकेश टिकैत इन कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन का पिछले 100 दिनों से अधिक समय से नेतृत्व कर रहे हैं। मुजफ्फरनगर जिले के सिसौली में स्थित अपने आवास पर 45 वर्षीय नरेंद्र ने कहा कि उनके दो भाइयों सहित पूरा टिकैत परिवार आंदोलन से पीछे हट जायेगा यदि उनके परिवार के किसी भी सदस्य के खिलाफ यह बात साबित कर दी जाये कि उन्होंने कुछ भी गलत किया है। उन्होंने कुछ वर्गो के उन आरोपों को भी खारिज कर दिया जिनमें कहा गया था कि उन्होंने आंदोलन से संपत्ति और धन अर्जित किया है। 

PM मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने महाशिवरात्रि के पर्व पर दी देशवासियों को शुभकामनाएं

पानी और बिजली को लेकर मेरठ की घेराबंदी
नरेंद्र के सबसे बड़े भाई नरेश टिकैत बीकेयू के अध्यक्ष हैं जबकि राकेश टिकैत संगठन के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। महेंद्र सिंह टिकैत के नेतृत्व में बीकेयू ने गन्ने की ऊंची कीमतों, ऋणों को रद्द करने और पानी और बिजली की दरों को कम करने की मांग को लेकर मेरठ की घेराबंदी की थी। उसी वर्ष, बीकेयू ने किसानों की दुर्दशा पर ध्यान केंद्रित करने के लिए दिल्ली के बोट क्लब में एक सप्ताह तक विरोध प्रदर्शन किया था। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.