Wednesday, Oct 27, 2021
-->
farmers organizations announced their strategy for punjab and up in view of the elections rkdsnt

चुनाव के मद्देनजर किसान संगठनों ने पंजाब और यूपी के लिए अपनी रणनीति का किया ऐलान

  • Updated on 9/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र के कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों ने शुक्रवार को राजनीतिक दलों की एक बैठक बुलाई है ताकि उन पर पंजाब विधानसभा चुनावों की घोषणा होने तक चुनावी प्रचार न करने का दबाव डाला जा सके। भाजपा को इस बैठक के लिए नहीं बुलाया गया है। पंजाब विधानसभा के चुनाव अगले साल की शुरुआत में होने हैं। 

JNU बेस्ट यूनिवर्सिटीज की NIRF रैंकिंग में दूसरा पायदान पर, डीयू 12वें स्थान पर

जम्हूरी किसान सभा के महासचिव कुलवंत सिंह संधू ने इसकी पुष्टि करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि किसान संगठनों ने शुक्रवार को यहां सभी राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई है। उन्होंने कहा कि तीन कृषि कानूनों का समर्थन करने वाली भाजपा को बैठक में आमंत्रित नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से कहा जाएगा कि वे चुनाव की घोषणा होने तक चुनाव प्रचार में शामिल न हों या राजनीतिक रैलियां न करें क्योंकि इससे चल रहे किसान संघर्ष को नुकसान पहुंच सकता है। 

‘हिंदू आईटी सेल’ के विकास पांडे ने गबन मामले में पत्रकार राना अयूब पर केस दर्ज कराया

शिरोमणि अकाली दल ने बृहस्पतिवार को कहा कि पार्टी अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने बैठक में भाग लेने के लिए बलविंदर सिंह भुंदर, प्रेम सिंह चंदूमाजरा, महेश इंदर सिंह ग्रेवाल और दलजीत सिंह चीमा को प्रतिनियुक्त किया है। आम आदमी पार्टी के विधायक कुलतार सिंह संधवान ने कहा कि शुक्रवार को किसान संगठनों द्वारा बुलाई गई बैठक में पार्टी के प्रतिनिधि भाग लेंगे। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने गत छह सितंबर को सभी 32 किसान संगठनों को अपने चुनावी कार्यक्रम‘गल पंजाब दी’के संबंध में सभी‘भ्रमों’को दूर करने के मकसद से उसके साथ बातचीत करने के लिए एक समिति गठित करने को आमंत्रित किया था। 

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की पत्नी नीलम, बेटे नीतेश के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर

शिअद ने केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन को अकालियों के ‘‘निरंतर समर्थन’’ को दोहराने के लिए किसानों के साथ बातचीत करने के वास्ते एक समिति का गठन किया था। शिअद का यह कदम ऐसे समय आया है जब किसानों के एक समूह ने हाल ही में पंजाब के मोगा जिले में अकाली दल के एक कार्यक्रम में जबरन घुसने की कोशिश की, जहां बादल बोल रहे थे।     इस घटना के बाद शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने अपनी पार्टी के चुनावी प्रचार अभियान‘गल पंजाब दी’को छह दिन के लिए रोक दिया था। 

यूपी में हर पार्टी भाग रही है ब्राह्मणों के पीछे

उप्र के सभी मंडल मुख्यालयों में ‘किसान पंचायत’ का आयोजन होगा
केंद्र के तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग समेत किसानों से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन करने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा इस महीने उत्तर प्रदेश के सभी मंडल मुख्यालयों में ‘किसान पंचायत’ आयोजित करेगा।      भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बृहस्पतिवार को कहा कि ऐसी पहली पंचायत 20 सितंबर को शाहजहांपुर मंडल मुख्यालय में आयोजित की जाएगी।      उन्होंने बताया कि बीकेयू उत्तर प्रदेश में अन्य पंचायतों के आयोजन के लिए तारीख तय कर रही है। उन्होंने कहा कि किसान यूनियन प्रदेश के सभी 18 मंडलों में पंचायत का आयोजन करेगी। 

कोर्ट ने DMRC के खिलाफ अंबानी ग्रुप की कंपनी के पक्ष में मध्यस्थता फैसले को बरकरार रखा

 

 

comments

.
.
.
.
.