Monday, Oct 25, 2021
-->
farmers protest at jantar mantar against agricultural laws metro stations may be closed rkdsnt

कृषि कानूनों के खिलाफ जंतर मंतर पर किसानों का प्रदर्शन, बंद हो सकते हैं मेट्रो स्टेशन

  • Updated on 7/21/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। वीरवार सुबह दस बजे से मानसून सत्र समाप्त होने तक संसद के कामकाजी दिन के दौरान 200 किसानों की टुकड़ी जंतर मंतर पर पहुंचकर सरकार के विरोध में अपनी किसान संसद आयोजित करेगी। इसके लिए जंतर-मंतर पर तैयारी भी की जा रही है। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि पांच बसों में वे सुबह जंतर मंतर के लिए रवाना होंगे और पूरे दिन, संसद के कामकाज के दौरान विरोध स्वरूप किसान संसद का आयोजन करेंगे। 

ऑक्सीजन की कमी की वजह से अपनों को गंवाने वाले केंद्र को कोर्ट में ले जाएं: राउत

 मोर्चा नेता बलवीर सिंह राजेवाल ने कहा कि संसद विरोध मार्च में शामिल होने के लिए किसानों के जत्थे दिल्ली पहुंच चुके हैं और कर्नाटक, तमिलनाडु और अन्य दूर के राज्यों से भी किसानों की टुकड़ी पहुंच रही हैं। हर दिन अधिक से अधिक किसान विरोध स्थलों पर पहुंच रहे हैं और बीकेयू चदूनी के नेतृत्व में किसानों का एक बड़ा दल यमुनानगर से रवाना हुआ। इसी तरह की लामबंदी अन्य विरोध स्थलों पर भी हो रही है।

पेगासस स्पाईवेयर के संभावित निशानों की लिस्ट में फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों का भी नाम

योगेंद्र यादव ने कहा कि लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित जवाब में कल कृषि और किसान कल्याण मंत्री ने बताया कि सरकार ने विरोध प्रदर्शनों को समाप्त करने के लिए कई प्रयास किए हैं। सच ये है कि भाजपा ने, केंद्र और विभिन्न राज्यों में विरोध प्रदर्शनों को समाप्त करने, नेताओं पर झूठे मुकदमे लगाने, उन्हें जेल भेजने, विरोध स्थलों की आपूर्ति में कटौती करने, किसान मोर्चा के चारों ओर बैरिकेड्स लगाने के लिए कई प्रयास किए। सरकार किसानों को बदनाम करने की कोशिश कर रही है और ऐसे में यह बयान शर्मनाक है। किसान प्रतिनिधियों से औपचारिक बातचीत के बावजूद सरकार ने संसद के पटल पर किसान आंदोलन की मांगों को सही ढंग से नहीं रखा।

अडाणी ग्रुप ने ब्रांडिंग, Logo करार तोड़ा, शुरू किए बदलाव - AAI कमेटियां

किसान नेता डॉ. दर्शन पाल ने कहा कि एमएसपी कानून बने, तीनों कृषि कानून रद्द हों। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार किसान संगठनों के साथ चर्चा के लिए हमेशा तैयार है और आंदोलन कर रहे किसानों के साथ इस मुद्दे को हल करने के लिए चर्चा के लिए तैयार रहेगी। अगर ऐसा होता तो किसान आंदोलन और सरकार के बीच आखिरी दौर की वार्ता पूरे छह महीने पहले 22 जनवरी 2021 को समाप्त हुई उसके बाद कोई वार्ता की पहल उनकी तरफ से नहीं हुई। 

ममता बोलीं- मोदी सरकार बनाना चाहती है ‘निगरानी वाला राष्ट्र’, सुप्रीम कोर्ट से लगाई गुहार

बंद हो सकते हैं ये मेट्रो स्टेशन...
दिल्ली मेट्रो भी किसानों के प्रदर्शन के दौरान अलर्ट रहेगी और आठ स्टेशनों को सूचना मिलते ही बंद कर दिया जाएगा। प्रदर्शन के मद्देनजर जनपथ, लोक कल्याण मार्ग, पटेल चौक, राजीव चौक, केंद्रीय सचिवालय, मंडी हाउस, बाराखंबा और उद्योग भवन पर जमघट के बाद इन स्टेशनों को बंद किया जा सकता है। 

comments

.
.
.
.
.