Wednesday, Mar 03, 2021
-->
farmers protest bku naresh tikait raised questions on his own people farm laws pragnt

Farmers Protest: नरेश टिकैत ने अपने ही लोगों पर उठाए सवाल, कहा- 2-3 नेता नहीं चाहते समाधान

  • Updated on 1/11/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसान संगठनों का आंदोलन 47वें दिन भी जारी है। प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के साथ सरकार की बातचीत में गतिरोध बरकरार रहने के बीच भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने बड़ा बयान दिया है। टिकैत ने आंदोलनरत किसानों और केंद्र सरकार के बीच लगातार बेनतीजा हो रही वार्ता को लेकर कुछ किसान नेताओं पर आरोप लगाया है।  

किसान नेता राकेश टिकैत बोले- वो हम पर लाठी चलाएंगे और हम राष्ट्रगान गाएंगे

कुछ किसान नेता नहीं चाहते विवाद का समाधान- टिकैत
यूपी गेट पर जारी आंदोलन में पहुंचे नरेश टिकैत ने कहा कि हम केंद्र सरकार के साथ समाधान को तैयार हैं, लेकिन संगठन के 40 लोगों में कुछ किसान नेता ऐसे भी हैं, जो समाधान नहीं चाहते हैं वे इसके बजाय मामले को आगे बढ़ा रहे हैं। बैठक में अगर सरकार के साथ कुछ सहमती भी बनती हैं तो संगठन में दो-तीन ऐसे नेता हैं जो उससे असहमति जता देते हैं। इन लोगों का मकसद सिर्फ सरकार के साथ हो रही बातचीत को असफल बनाना होता है। उन्होंने कहा कि ऐसे नेताओं को पहले समझाया जाएगा या विचार विमर्श कर बातचीत कमेटी से बाहर किया जाएगा। 

किसान आंदोलन से जुड़ी सभी याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज, सरकार और किसानों की टिकी नजर

समाधान चाहता है किसान
एक न्यूज पेपर से बातचीत के दौरान नरेश टिकैत ने किसान नेताओं को लेकर ये खुलासा किया है। उन्होंने कहा, 'देश का किसान विवाद नहीं बल्कि समाधान चाहता है। यही वजह है कि जब भी सरकार किसानों को वार्ता के लिए निमंत्रण देती है तो वह पहुंच जाते हैं। जबकि सरकार ने उनकी मांगों को एक बार नहीं बल्कि कई बार ठुकराया है। इसके बावजूद वह सरकार के बुलावे पर बातचीत के लिए तैयार हो जाते हैं।

लड़की के थे पड़ोसी लड़के से प्रेम-संबंध, मां-बाप ने गला दबाकर कर दी हत्या

रोड़ा बन रहे लोगों को कमेटी से किया जाएगा बाहर
टिकैत ने बताया कि सरकार के साथ हो रही वार्ता के लिए आंदोलन कर रहे 40 किसान संगठनों के नेताओं की कमेटी बनाई गई है। इन्हीं में से कुछ लोग समाधान निकालना नहीं चाहतें, और वार्ता के दौरान बार-बार रोड़ा बन रहे हैं। इन नेताओं का पता चलते ही उन्हें समझाया जाएगा या कमेटी से बाहर किया जाएगा। उन्होंने यह भी माना कि सरकार लगातार किसान की बातों को सुन रही है लेकिन कुछ लोगों की वजह से सभी की एक सम्मति नहीं बन पा रही है। इस समय किसान केवल अपनी समस्या का समाधान चाहते हैं। 

मोदी सरकार ने अघोषित विदेशी संपत्ति की जांच के लिए आयकर विभाग में बनाई न्यू स्पेशल यूनिट

26 को दिल्ली में घुसने को आमादा
कृषि कानूनों को रद्द करने से सरकार की मनाही से नाराज किसान अब आरपार के लिए तैयार हो गए हैं। किसानों ने साफ कर दिया है कि चाहे कुछ हो जाए, दिल्ली में 26 जनवरी को शक्ति प्रदर्शन जरूर करेंगे। किसानों की निगाह सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई पर भी टिकी हुई है। सुप्रीम कोर्ट के रुख के बाद किसान रणनीति बनाकर बताएंगे कि आगे अब क्या करना है? इस बीच 26 जनवरी के लिए तैयारियों शुरू हो चुकी हैं।

तो क्या किसान आंदोलन को संजीवनी मान बैठी है कांग्रेस, पार्टी ने घोषित किए कई कार्यक्रम

मीडिया से बातचीत करने से किया मना
सिंघू बार्डर पर जत्थेबंदियों की दिनभर बैठक चली लेकिन किसान नेताओं ने मीडिया से बातचीत से मना कर दिया और कहा कि सोमवार को सारी स्थिति स्पष्ट कर देंगे। इसमें 15 जनवरी की बैठक में शामिल होने का फैसला भी शामिल है। किसानों ने लोहड़ी पर्व पर कानूनों की प्रतियां जलाने का आह्वान किया है। 18 जनवरी को हर जिला व तहसील स्तर पर महिला किसान दिवस मनाया जाना है। अब बार्डर के सभी मंचों की अगुवाई महिलाओं के हाथ देने की भी बात रखी गई है। इसमें सर्वसम्मति से निर्णय हो गया है।

बिहार में कैबिनेट विस्तार में देरी के लिये नीतीश ने बीजेपी को लिया आड़े हाथ

भाकियू नेता ने कहा ये
भाकियू नेता गुरनाम सिंह चढूनी का कहना है कि गणतंत्र दिवस की परेड के लिए वह बैरिकेड तोड़ते हुए आगे बढ़ेंगे। उनको जिस तरह से दिल्ली जाने से रोकने के लिए हथकंडे अपनाए गए थे लेकिन वे उन सभी को पार करते हुए दिल्ली तक पहुंच गए हैं। ऐसे ही गणतंत्र दिवस की परेड के लिए दिल्ली के अंदर घुसेंगे। वे अपनी परेड निकालेंगे और गणतंत्र दिवस की परेड खराब करने या उसमें व्यवधान डालने का किसानों का कोई इरादा नहीं है। चढूनी ने कहा कि सरकार गोली ही मारेगी, 70 शहीद हो गए हैं 70 या 100 और शहीद हो जाएंगे।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.