Sunday, Apr 18, 2021
-->
farmers protest digvijay singh attack on modi government whites gone disciples left pragnt

दिग्विजय सिंह का मोदी सरकार पर हमला, कहा- गोरे चले गए, चेले छोड़ गए

  • Updated on 1/29/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर दिल्ली (Delhi) में किसान परेड के दौरान हुई हिंसा और लाल किले पर धार्मिक झंडा फहरा कर उपद्रव मचाने के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर समेत आठ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। यूपी पुलिस की इस कार्रवाई पर कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। 

दिल्ली में आज बंद रहेंगे ये रास्ते और मेट्रो स्टेशन, इन रास्तों का करें इस्तेमाल

गोरे चले गए चेले छोड़ गए- दिग्विजय सिंह
कांग्रेस से राज्यसभा सांसद और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा, 'भाजपा वही कर रही है जो ब्रिटिश हुकूमत ने आजादी की लड़ाई में भारत की आजादी के लिए लड़ रहे सेनानियों के विरुद्ध किया था। देशद्रोह का केस लगाया था।' उन्होंने आगे कहा कि गोरे चले गए चेले छोड़ गए।'

Digvijaya Singh

किसानों के पक्ष में सड़कों पर उतरे विपक्ष
इससे पहले दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा, 'जिन 16 राजनीतिक दलों ने किसान विरोधी कानून के कारण राष्ट्रपति अभिभाषण का बहिष्कार किया है उन्हें किसानों के पक्ष में ट्विटर से आगे चल कर, सड़कों पर उतरना चाहिए। राजनाथ जी, आपने टिकैत जी के पक्ष में कंधे से कंधा मिला कर किसानों के लिए संघर्ष करने का वादा किया था अब कब करेंगे?'

संसद का बजट सत्र आज से, विपक्षी दलों ने बनाई ये रणनीति, हंगामेदार होने की संभावना

किसान ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के लिए ठहराया जिम्मेदार
बता दें कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में किसान परेड के दौरान हुई हिंसा व लाल किले पर धार्मिक झंडा फहरा कर उपद्रव मचाने के मामले में नोएडा के थाना सेक्टर-20 में कांग्रेस सांसद शशि थरूर समेत आठ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। मामला दर्ज कराने वाले नोएडा के एक कारोबारी है। उन्होंने सांसद शशि थरूर समेत आठ लोगों पर आरोप लगाया है कि परेड़ के दौरान इन सभी ने अपने अपने सोशल मीडिया अकाउंट व पत्रिका की पोर्टल के वेव प्रसारण के माध्यम से ऐसी भ्रामक व तथ्यहीन जानकारियां पोस्ट व प्रसारित की। जिससे दिल्ली में हिंसा और भड़की।

गाजीपुर बॉर्डर कोे नहीं खाली करा पाई सरकार, देर रात वापस भेजे गए सुरक्षाकर्मी

दंगा भड़काने की साजिश का आरोप 
संयम के साथ ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मियों पर हमला किया और देश की धरोहर लाल किले पर पहुंच कर देश व दुनिया में उन्माद फैलाने का प्रयास किया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर धार्मिक भावनाए भड़काने, वैमस्य फैलाने और देश की अखंडता व प्रभुता की छवि को धूमिल करने समेत आईपीसी की कई अन्य धाराओं में मुकदमे दर्ज किए है। 

आंदोलन को बचाने के लिये राकेश टिकैत का आखिरी दांव... खेला इमोशनल कार्ड

इन लोगों पर कसा शिकंजा
अपर पुलिस आयुक्त कानून एवं व्यवस्था लव कुमार ने बताया कि सुपरेटेक केपटाउन सेक्टर-सेक्टर-74 निवासी पेशे से कारोबारी अर्पित मिश्रा ने थाना सेक्टर-20 में तिरूवनंतपुरम् केरल से सांसद शशि थरूर, इंडिया टुडे के न्यूज एंकर राजदीप सरदेसाई, नेशनल हेराल्ड ग्रुप की वरिष्ठ सम्पादकीय सलाहकार मृणाल पांडेय, कौमी आवाज उर्दू समाचार पत्र के संपादक जफर आगा, कारवा पत्रिका के मुख्य संपादक प्रकाशक और मुद्रक परेशनाथ, कारवां पत्रिका के संपादक अनंतनाथ, कारवां पत्रिका के कार्यकारी संपादक विनोद के जोस व एक व्यक्ति अज्ञात के खिलाफ शिकायत दी है कि गणतंत्र दिवस पर किसान ट्रैक्टर मार्च के दौरान इन सभी लोगों ने अपने अपने सोशल अकाउंट व पत्रिका के वेव प्रसारण में भ्रामक व तथ्यहीन खबरे प्रकाशित की। जैसे कि आंदोलनकारी को पुलिस ने गोली मार दी। जिसके बाद आंदोलनकारी उग्र हुए। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.