Wednesday, Oct 27, 2021
-->
farmers protest ends in karnal ias ayush sinha sent leave retired judge will investigate rkdsnt

करनाल में किसान प्रदर्शन खत्म, IAS सिन्हा भेजे गए छुट्टी पर, रिटायर्ड जज करेंगे जांच

  • Updated on 9/11/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हरियाणा की भाजपा सरकार ने पिछले महीने किसानों और पुलिस के बीच हुई झड़प और उसके बाद लाठीचार्ज के मामले में जांच के आदेश दिए है। इस जांच दोनों पक्षों के बीच विवाद के केंद्र में रहे भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी को अवकाश पर भेज दिया। इसके बाद, किसानों ने कहा कि वह करनाल जिला मुख्यालय के बाहर जारी अपने प्रदर्शन को वापस ले लेंगे। 

उत्तराखंड के बाद गुजरात में सियासी उलटफेर, विजय रूपानी ने सीएम पद से दिया इस्तीफा

हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह ने करनाल में मीडिया को बताया कि जांच सेवानिवृत्त न्यायाधीश करेंगे। उन्होंने बताया कि जांच एक महीने के भीतर पूरी होगी और पूर्व उपसंभागीय जिलाधिकारी (एसडीएम) आयुष सिन्हा इस दौरान अवकाश पर रहेंगे। संवाददाता सम्मेलन का हिस्सा रहे किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि वे अब करनाल जिला मुख्यालय के बाहर अपने धरने को समाप्त कर देंगे। 

जम्मू कश्मीर की मिली-जुली संस्कृति को खत्म करने की कोशिश में RSS, भाजपा: राहुल गांधी

किसान सिन्हा के निलंबन की मांग कर रहे थे जो पुलिसर्किमयों को किसानों का च्च्सिर फोड़ देने’’ के लिए कथित तौर पर आदेश देते सुने गए थे।  करनाल में 28 अगस्त को भाजपा के बैठक स्थल की ओर मार्च करने की कोशिश कर रहे किसानों की पुलिस के साथ झड़प हो गई थी जिस दौरान लगभग 10 प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे। 

चुनाव के मद्देनजर किसान संगठनों ने पंजाब और यूपी के लिए अपनी रणनीति का किया ऐलान

देवेंद्र सिंह ने यह भी घोषणा की कि उस किसान के परिवार के दो सदस्यों को नौकरी दी जाएगी, जिसके बारे में प्रदर्शनकारियों ने दावा किया था कि लाठीचार्ज के दौरान घायल होने के बाद उसकी मौत हो गई थी। इस आरोप से प्रशासन ने पहले इनकार किया था।

गुजरात की भाजपा सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने पार्किंग पॉलिसी बनाने का दिया निर्देश


 

comments

.
.
.
.
.