Monday, Oct 25, 2021
-->
farmers protest khap started langer seva kmbsnt

लंबे समय तक आंदोलन की तैयारी में किसान, जुटाया जा रहा गर्मियों का सामान

  • Updated on 2/12/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नए कृषि कानूनों (New farm Laws) के विरोध में किसानों को दिल्ली की सीमाओं पर बैठे लंबा समय हो गया है। इसके बाद भी सरकार और किसानों के बीच बात बनती नजर नहीं आ रही है। ऐसे में अब किसान लंबे समय के लिए आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं। सिंघू बॉर्डर (Singhu Border) पर सीसीटीवी और एलईडी स्क्रीन लगाई जा रही है। इतना ही नहीं स्वयं सेवकों को हिडन कैमरों से लैस किया जा रहा है। वहीं इंटरनेट की दिक्कतों को देखते हुए ऑप्टिकल फाइबर बिछाने की तैयारी भी की जा रही है। 

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत पहले ही आंदोलन को 2 अक्टूबर तक जारी रखने का ऐलान कर चुके हैं। उन्होंने सराकर को उनकी मांगो पर विचार करने के लिए 2 अक्टूबर तक का समय दिया है। ऐसे में प्रदर्शनस्थलों पर लंबे समय तक के लिए आंदोलन की तैयारी जोरो पर है।

अनुराग ठाकुर बोले- ‘हम दो, हमारे दो’ से राहुल का मतलब ‘दीदी, जीजाजी और परिवार से’ 

गर्मियों के लिए सुविधा जुटाने की तैयारी
सिंघू बॉर्डर पर लॉजिस्टिक्स से जुड़े दीप खत्री का कहना है कि आंदोलन को लंबे समय तक जारी रखने के लिए तमाम सुविधाओं को दुरुस्त करने का काम किया जा रहा है। मंच के पीछे एक कंट्रोल रूप तैयार किया जा रहा है। इतना ही नहीं प्रदर्शनस्थल पर सीसीटीवी के साथ डिजिटल वीडियो  रिकॉर्डर भी लगाए जा रहे हैं। 

वहीं अब दिल्ली में गर्मी दस्तक दे रही है, ऐसे में किसानों की सुविधा के लिए पहले से ही गर्मी से जूझने की तैयारी की जा रही है। वाटर कूलर, प्लासिटिक शीट, मच्छरदानी, गर्मी के लिए स्पेशल टेंट की व्यवस्था का काम भी जारी है। बताया जा रहा है कि गर्मी में  सुविधाओं के लिए इस माह के अंत तक सभी सामान जुटा लिया जाएगा। वहीं किसानों की आवाज को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने और प्रशासन के कानों में डालने के लिए एलईडी  स्क्रीनें भी लगाई जाएंगी। 

घटी सुरक्षा बलों की संख्या
इसके साथ ही प्रदर्शनस्थलों पर लोगों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है, हालांकि आंदोलन फिलहाल शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है। इसे देखते हुए सरकार ने सुरक्षा बलों की संख्या को यहां पर घटा दिया है। हालांकि वापस बुलाएगा सभी बलों को अलर्ट पर रखा गया है ताकि अगर कोई भी घटना होती है, तो तत्काल इन्हें सुरक्षा में लगाया जा सके।

दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गुरुवार को किसानों ने कई तरह के आंदोलन की रणनीति की रूपरेखा तैयार की है, जिसको देखते हुए पुलिस को अलर्ट किया गया है। उन्होंने बताया है कि हालांकि किसानों ने आंदोलन के तहत जो भी ऐलान किए हैं उसे राजधानी पर कोई असर नहीं पड़ेगा, लेकिन एहतियातन सुरक्षा सख्त की गई है।

किसान की मौत की SIT जांच की मांग, कोर्ट ने केजरीवाल सरकार, पुलिस से मांगा जवाब 

12 से 18 फरवरी तक ये होंगे किसानों के कार्यक्रम
बता दें कि किसानों ने 12 फरवरी से राजस्थान के सभी रोड टोल प्लाजा को टोल मुक्त करवाने की मुहिम को छेड़ा है। वहीं 14 फरवरी को पुलवामा हमले में शहीद जवानों के बलिदान के लिए देशभर में कैंडल मार्च में मशाल जुलूस कार्यक्रम बनाया है। इसी तरह 18 फरवरी को दोपहर 12:00 से शाम 4:00 बजे तक देश भर में रेल रोको कार्यक्रम रखा गया है। जिसको देखते हुए रणनीति बनाई गई है।

ये भी पढ़ें:

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.