Friday, Jul 23, 2021
-->
farmers-protest-rahul-gandhi-modi-government-will-have-to-accept-tha-farmers-demand-prsgnt

किसान आंदोलन पर बोले राहुल गांधी, ये तो बस शुरुआत है, वापस लेने होंगे मोदी सरकार को काले कानून

  • Updated on 11/27/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान पंजाब से चलता हुआ अब दिल्ली पहुंच चुका है। सरकार की अनुमति के बाद किसानों को राजधानी दिल्ली में दाखिल होने की अनुमति मिल गई। 

अब किसान बुराड़ी के मैदान में प्रदर्शन कर सकते हैं। इसके साथ ही उनसे शांति बनाये रखने की अपील की गई है। इसी बीच किसानों के समर्थन में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए उनका साथ देने और सरकार पर हमलावर होते हुए अपनी बात कही है। 

राहुल गांधी ने कहा है कि किसानो की मांगे सरकार को माननी ही पड़ेगी और इस काले कानून को वापस लेने होंगे। 
राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ''PM को याद रखना चाहिए था जब-जब अहंकार सच्चाई से टकराता है, पराजित होता है। सच्चाई की लड़ाई लड़ रहे किसानों को दुनिया की कोई सरकार नहीं रोक सकती। मोदी सरकार को किसानों की माँगें माननी ही होंगी और काले क़ानून वापस लेने होंगे। ये तो बस शुरुआत है!''

किसानों के 'दिल्ली चलो मार्च' को मिल रहा है कांग्रेस का समर्थन, बोला सरकार पर हमला

वहीं, किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के नौ स्टेडियमों को अस्थायी जेल बनाने के लिए दिल्ली सरकार को अर्जी थी। लेकिन, दिल्ली सरकार ने इसे नामंजूर कर दिया था। 

वहीँ, इस बारे में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा,'केंद्र सरकार को किसानों की मांगें माननी चाहिए।  किसानों की मांग वाजिब है।  उन्होंने कहा कि किसानों को जेल में नहीं डाला जा सकता।  इसलिए स्टेडियम को अस्थाई जेल बनाने की दिल्ली पुलिस की अर्जी को दिल्ली सरकार ने ठुकरा दिया है। 

बताते चले कि किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च के मद्देनजर हरियाणा से राष्ट्रीय राजधानी को जोड़ने वाले मार्गों को दिल्ली पुलिस द्वारा बंद कर दिये जाने से शुक्रवार को शहर में अहम रास्तों पर वाहनों का जाम लग गया। दिल्ली यातायात पुलिस ने बताया कि इस प्रदर्शन के चलते ढांसा और झाड़ौदा कलां सीमाएं यातायात के लिए बंद कर दी गयीं और यात्रियों को वैकल्पिक मार्ग लेने को कहा गया है।

comments

.
.
.
.
.