Saturday, Jan 22, 2022
-->
farmers Protests FICCI says Use of right to protest not to create deadlock rkdsnt

विरोध प्रदर्शन के अधिकार का इस्तेमाल गतिरोध पैदा करने के लिए नहीं: फिक्की चीफ उदय शंकर

  • Updated on 12/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उद्योगमंडल, फिक्की के नवनिर्वाचित अध्यक्ष उदय शंकर ने कहा है कि ‘विरोध के अधिकार’ का उपयोग किसी समस्या के समाधान के लिए होना चाहिए न कि अन्य लोगों के जीवन में बाधा पैदा करने वाले सतत गतिरोध पैदा करने के लिए। उन्होंने यह बात ऐसे समय की है जबकि तीन नए केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसान 28 से दिल्ली में प्रवेश के मार्गों पर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। 

जेकेसीए धन शोधन मामले को लेकर फारूक अब्दुल्ला बोले- किसी के आगे नहीं झुकूंगा

आंदोलन का नेतृत्व कर रही किसान यूनियनों ने केंद्र सरकार की नये सिरे से वार्ता के प्रस्ताव पर फैसला टाल दिया। कंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को उम्मीद जताई थी कि किसान जल्द ही नए कृषि कानूनों पर गतिरोध को हल करने के लिए बातचीत फिर से शुरू करेंगे। किसानों के इस आंदोलन पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में उदय शंकर ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि रचनात्मक ढांचे में बातचीत हो। 

किसान यूनियनों ने केंद्र के कृषि कानूनों में संशोधन के प्रस्ताव को ठुकराया

उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह समझ नहीं पा रहा हूं कि एक तरफ हर कोई मानता है कि कृषि क्षेत्र, बहुत कम सुधार वाले क्षेत्रों में से एक है, हमें कृषि उत्पादन, पैदावार बढ़ाने की जरूरत है, हमें भू-स्वामी के साथ साथ इन खेतों पर निर्भर करने वाले लोगों की आय बढ़ाने की जरूरत है। हमें पूंजी के प्रवाह को खोलने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि भारत वैविध्यताओं से भरा लोकतंत्र है और लोगों को अपनी असहमति जताने और अपनी बात उठाने का अधिकार है।  

आईसीसी की धमकी के बीच BCCI की अहम एजीएम 

शंकर ने कहा, ‘‘मेरे पास उसके बारे में दो विचार हैं। सबसे पहले, किसी के विरोध को अन्य लोगों के सामान्य जीवन को पंगु नहीं बनाना चाहिए। जबकि हमें विरोध करने के लोगों के अधिकार का सम्मान जरूर करना चाहिए, हमें अपने सामान्य जीवन और व्यवसाय का संचालन करने के लिए लोगों के अधिकार का भी सम्मान करना चाहिए। विरोध का यह मतलब नहीं है कि किसी स्थिति को अपने कब्जे में की लें ।’’ 

कंगना रनौत के बंगले में तोड़फोड़ मामले में मानवाधिकार आयोग ने BMC आयुक्त को किया तलब

अर्थव्यवस्था के बारे में शंकर ने कहा कि देश ने आपूर्ति और मांग के संदर्भ में महामारी के कारण उत्पन्न स्वाथ्य एवं सामाजिक स्तर पर व्यवधान बहुत व्यापक है। हमने महीनों तक इसको भुगता और अब लग रहा है कि अर्थव्यवस्था जोरदार तरीके से सुधर रही है। आगामी केंद्रीय बजट से संबंधित एक प्रश्न पर शंकर ने कहा कि सरकार को संसाधनों को बढ़ाने के तरीकों पर विचार करना चाहिए। 

 

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पूर्व नौकरशाहों को नहीं आया रास, पीएम मोदी को लिखा पत्र

 

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

 

 

  •  
comments

.
.
.
.
.