Friday, Jul 30, 2021
-->
farmers tractor parade on republic day farmer leaders make clear stand rkdsnt

गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड : वैकल्पिक मार्ग पर किसान नेताओं ने अपना रुख किया साफ

  • Updated on 1/20/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केन्द्र की मोदी सरकार के नये कृषि कानूनों का विरोध कर रही किसान यूनियनों ने 26 जनवरी को प्रस्तावित अपनी ट्रैक्टर रैली के लिए वैकल्पिक मार्ग के सुझाव को बुधवार को खारिज कर दिया। सूत्रों ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि पुलिस अधिकारियों ने प्रस्तावित ट्रैक्टरी रैली को दिल्ली के व्यस्त बाहरी रिंग रोड की बजाय कुंडली-मानेसर पलवल एक्सप्रेस वे पर आयोजित करने का सुझाव दिया था जिसे किसान यूनियनों ने अस्वीकार कर दिया। 

कांग्रेस ने बुलाई CWC की बैठक, अध्यक्ष के चुनाव पर हो सकती है चर्चा

यूनियन नेताओं और दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हरियाणा पुलिस बलों के अधिकारियों ने गणतंत्र दिवस पर प्रस्तावित रैली के मार्ग और प्रबंधों पर चर्चा करने के लिए यहां विज्ञान भवन में मुलाकात की। सूत्रों ने बताया कि पुलिस अधिकारियों ने किसान नेताओं को रैली के लिए कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेसवे मार्ग का सुझाव दिया जिसे उन्होंने खारिज कर दिया। 

कृषि कानूनों पर गठित कमेटी के सदस्यों पर आरोप लगाए जाने से सुप्रीम कोर्ट खफा

बाहरी रिंग रोड विकासपुरी, जनकपुरी, उत्तम नगर, बुराड़ी, पीरागढ़ी और पीतमपुरा जैसे दिल्ली के कई क्षेत्रों से होकर गुजरता है। बैठक में शामिल एक किसान नेता ने बताया कि बृहस्पतिवार को पुलिस अधिकारियों के साथ वार्ता का एक और दौर हो सकता है। राष्ट्रीय राजधानी की अलग-अलग सीमाओं पर किसान पिछले 56 दिनों से तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। 

अर्नब की व्हाट्सएप चैट मामले को लेकर कांग्रेस बोली- संसद में भी उठाएंगे मुद्दा

एक वरिष्ठ किसान नेता ने कहा कि बैठक के दौरान, ‘‘हमने 26 जनवरी को अपनी ट्रैक्टर रैली के संबंध में पुलिस अधिकारियों के साथ कई बिंदुओं पर चर्चा की।’’ सूत्रों के अनुसार संयुक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी क्षेत्र) एस एस यादव ने दिल्ली पुलिस की ओर से बैठक का समन्वय किया। उन्होंने बताया कि बैठक में हरियाणा और उत्तर प्रदेश के पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे।   

ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है: किसान संगठन

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

  


 

comments

.
.
.
.
.