Tuesday, Jun 28, 2022
-->
farmers vandalize cms venue in haryana police release tear gas albsnt

हरियाणा में सीएम की रैली में किसानों ने की तोड़फोड़, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले

  • Updated on 1/10/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कृषि कानून का विरोध कर रहे किसानों ने आज हरियाणा में जमकर बवाल काटा है। दरअसल राज्य के सीएम मनोहर लाल खट्टर करनाल के कैमला गांव में बीजेपी संवाद कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। उससे पहले सैंकड़ों किसान सभा स्थल पर पहुंच गए और विरोध करने लगे। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने वाटर कैनन और आंसू गैस दागे। ताकि भीड़ को तितर-बितर किया जा सकें। वहीं हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने अपने कार्यक्रम को रद्ध कर कर दिया है।

विश्व हिंदी दिवस: अब हिंदी वैश्विक स्तर की भाषा बन गई है

मालूम हो कि पंजाब,हरियाणा और पश्चिमी उत्तरप्रदेश के किसान नए कृषि कानून के खिलाफ पिछले 40 दिन से ज्यादा दिन से आंदोलन कर रहे है। इसी कड़ी में बीजेपी भी किसानों को समझाने-बुझाने के लिये संवाद कार्यक्रम करके कृषि कानून से होने वाले फायदे को बताने का प्लान किया है। जिसके तहत ही हरियाणा के सीएम करनाल में इस विषय पर केंद्र सरकार का पक्ष रखने वाले थे। एक रिपोर्ट के मुताबिक सीएम को काले झंडे भी दिखाये जा सकते है। 

लद्दाख में Indian Army ने पकड़ा चीनी सैनिक तो तिलमिलाया ड्रैगन, की ये मांग

उधर पहले से ही असंतुष्ट किसानों ने ऐलान किया था कि वे लोग सीएम के कार्यक्रम का विरोध करेंगे। हालांकि भारी पुलिस बल की तैनाती की गई। जिससे सीएम के किसी भी कार्यक्रम में बाधा उत्पन्न नहीं हो।लेकिन जब आंदोलन पर उतारु किसान पुलिस के समझाने पर भी नहीं मानें तो लाठीचार्ज करना पड़ा। वहीं इस घटना के बाद स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। उग्र किसानों ने सीएम के लिये बनाये गए स्टेज पर तोड़फोड़ भी की है। वहीं हेलीपैड पर भी किसान जमघट लगाए हुए है। हालांकि सीएम का हेलीकॉप्टर अभी तक लैंड नहीं किया है। दूसरी तरफ कांग्रेस ने सीएम खट्टर पर तीखा प्रहार किया है। पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए लिखा कि सीएम साहब को किसान महापंचायत का ढोंग बंद करना चाहिये। 

ये भी पढ़ें:-

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.