Saturday, Jan 29, 2022
-->
Farmers will be able to take out tractor parade only after Republic Day parade prshnt

गणतंत्र दिवस परेड के बाद ही ट्रैक्टर परेड निकाल सकेंगे किसान, पुलिस की होगी कड़ी सुरक्षा

  • Updated on 1/25/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों की 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड (Tractor parade) की पूरी तैयारी हो गई है। किसानों कोशिशों के बाद आखिर पुलिस (Delhi Police) ने कुछ शर्तों के साथ राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर उन्हें ट्रैक्टर परेड निकालने की इजाजत दे दी है। राजपथ पर 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड खत्म होने के बाद किसान दिल्ली के तय रूटों सिर्फ सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बार्डर पर परेड निकालने की इजाजत दी गई है।

कारगिल में पर्यटन की हैैं अपार संभावनाएं : पटेल

308 बनाए गए नय ट्विटर अकाउंट
दरअसल परेड में हिंसा फैलाने की पाकिस्तान की साजिश भी सामने आ रही है, बताया जा रहा है कि पाकिस्तान इसके लिए इंटरनेट मीडिया का सहारा ले रहा है। उसने 308 ट्विटर अकाउंट बनाए हैं, जिसकी जानकारी इंटेलिजेंस को मिल गई है। इसे देखत हुए सुरक्षा के बेहद कड़े बंदोबस्त किए जा रहे हैं।

बता दें कि गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड के बीच गड़बड़ी करने और राजधानी में दंगे वह आतंकी साजिश को दिल्ली पुलिस ने बेनकाब किया है। पुलिस ने पाकिस्तान से संचालित 308 ट्विटर हैंडल ट्रेस किए हैं, जो पाकिस्तान, तुर्की और अफगानिस्तान के आसपास से संचालित थे।

अर्नब व्हाट्सएप चैट : रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने कांग्रेस पर ‘झूठे प्रचार’का आरोप लगाया

आतंकी साजिश रचने की बड़ी योजना
दिल्ली पुलिस ने बताया की रैली की आड़ में पाकिस्तान की आईएसआई और प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन किस तरह से आतंकी साजिश रच रहे थे। इनकी योजना सोशल मीडिया के जरिए उन्माद फैलाने की थी, हालांकि दिल्ली पुलिस ने स्पष्ट किया कि परेड के लिए तीन रूट तय किए गए हैं। परेड सिंघू बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर से निकलेगी शांहजहांपुर और पलवल से ट्रैक्टर परेड के बारे में अंतिम फैसला नहीं हो पाया है।

कमलनाथ का राम मंदिर चंदे और पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर भाजपा पर कटाक्ष 

13 जनवरी से 18 जनवरी के बीच 308 ट्वीटर हैंडल बने
बता दें कि ट्विटर और अन्य सोशल साइट्स पर ट्रेंड कर रहा था। इसके सबंधं में कई इनपुट आई बी ने दिए हैं, जिसकी जांच की गई है। इसी जांच के तहत पता चला कि 13 जनवरी से 18 जनवरी के बीच 308 ट्वीटर हैंडल बने और इनके फॉलोअर्स की संख्या एकाएक लाखों में जा पुहंची।

इन ट्विटर हैंडलों की जांच में  पता चला कि ये सभी पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर, तुर्की और अफगानिस्तान के आसपास आईएसआईएस प्रभावित इलाके से बने थे, जहां किसानों को खालिस्तानी समर्थक बतात हुए आंदोलन को उग्र बनाने की बातें कहीं गईं।

ट्रैक्टर रैली पर पाकिस्तान की नापाक साजिश का पर्दाफाश, दिल्ली पुलिस ने ट्रेस किए 308 ट्विटर हैंडल

बता दें कि पुलिस ने कहा कि ट्रैक्टर परेड दिल्ली के तीन सीमा बिदुओं- सिंघू, टिकरी और गाजीपुर से आयोजित की जाएगी और इसे पर्याप्त सुरक्षा प्रदान की जाएगी। मुख्य तौर पर पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों किसान तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर पिछले वर्ष नवम्बर से दिल्ली के कई सीमा ङ्क्षबदुओं पर डेरा डाले हुए हैं।किसानों ने पहले घोषणा की थी कि कृषि कानूनों के खिलाफ अपने विरोध के तौर पर वे गणतंत्र दिवस पर एक शांतिपूर्ण ट्रैक्टर परेड करेंगे।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.