Wednesday, Jan 29, 2020
farooq abdullah meets pm narendra modi discusses kashmir situation wit election

फारूक अब्दुल्ला ने पीएम मोदी से की मुलाकात, कश्मीर हालात पर की चर्चा

  • Updated on 8/1/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। फारूक अब्दुल्ला के नेतृत्व में नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और राज्य में विधानसभा चुनाव इसी साल कराने का अनुरोध किया। प्रतिनिधिमंडल ने मोदी से यह भी सुनिश्चित करने का अनुरोध किया कि ऐसा कोई कदम ना उठाया जाए जिससे कश्मीर घाटी में स्थिति बिगड़े। प्रतिनिधिमंडल ने करीब 20 मिनट तक प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की।  

#EVM के खिलाफ रैली के लिए राज ठाकरे ने ममता बनर्जी को दिया न्योता

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मुलाकात के बाद बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री को मौजूदा स्थिति और लोगों की शंकाओं से अवगत कराया। पार्टी के सांसद हसनैन मसूदी भी इस प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे।

अयोध्या बाबरी मस्जिद विवाद: मध्यस्थता पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपी स्टेटस रिपोर्ट

उमर अब्दुल्ला ने पत्रकारों से कहा, ‘‘हमने प्रधानमंत्री से दो मुद्दों पर बातचीत की। हमने उनसे कहा कि ऐसा कोई कदम नहीं उठाया जाना चाहिए जिससे कश्मीर घाटी में स्थिति खराब हो। हमने उनसे यह भी कहा कि विधानसभा चुनाव साल समाप्त होने से पहले कराए जाएं।’’ 

ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में गिरावट का दौर जारी- मारुति सुजुकी, बजाज ऑटो पर भी असर

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को बताया गया कि काफी कठिनाइयों के बाद कश्मीर घाटी में स्थिति में सुधार है और यह पिछले साल से बेहतर है, लेकिन स्थिति किसी भी वक्त बिगड़ सकती है। नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) के नेता ने कहा, च्च्हमने उन्हें लोगों की भावना के बारे में बताया और यह भी जानकारी दी कि लोगों में तनाव है।’’

10 फीसदी आर्थिक आरक्षण पर मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दी दलीलें

यह पूछे जाने पर कि क्या इस दौरान संविधान के अनुच्छेद 35-ए को रद्द करने को लेकर लग रही अटकलों पर भी प्रधानमंत्री के साथ चर्चा हुई, उमर अब्दुल्ला ने कहा कि उन्होंने इसके बारे में निॢदष्ट नहीं किया। उन्होंने कहा, च्च्लेकिन, जब हम कहते हैं कि कोई कदम नहीं उठाना चाहिए, इसका मतलब है इसमें सभी मुद्दे आते हैं, अनुच्छेद 35-ए और अनुच्छेद 370 भी। हमारा मत है कि एक नई सरकार बने और इस पर फैसला ले। लोगों को तय करने देते हैं कि वे किसे चुनना चाहते हैं। हम लोगों के फैसले को स्वीकार करेंगे।’’ 

हैप्पीनेस क्लास: केजरीवाल सरकार की पहल से प्रभावित नजर आए #CJI गोगोई

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री के साथ मुलाकात बेहद सौहार्दपूर्ण रही और मोदी ने उन्हें अपनी भावनाओं (जम्मू कश्मीर पर) से अवगत कराया। प्रधानमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल से क्या कहा इसका खुलासा न करते हुए उमर ने कहा, च्च्हम बैठक से संतुष्ट हैं।’’ 

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती की जम्मू कश्मीर के राजनीतिक दलों द्वारा एकजुट रुख अपनाए जाने की अपील पर उन्होंने कहा कि रविवार को नेकां की राजनीतिक मामलों की समिति की बैठक रविवार को होगी और उसमें इस पर फैसला लिया जाएगा। 

सुप्रीम कोर्ट: मुकद्दमों के बढ़ते बोझ के तहत बढ़ी जजों की संख्या, अब होंगे 34 न्यायाधीश

बाद में उमर ने एक ट्वीट में कहा, च्च्हमने उनसे (मोदी से) अनुरोध किया कि हड़बड़ी में किसी तरह का कदम नहीं उठाया जाना चाहिए जिससे राज्य में खासतौर पर घाटी में स्थिति और खराब हो। हमने खास तौर पर उनसे कहा कि न्यायालय के पास विचाराधीन मामलों को अदालतों द्वारा सुलझाने दिया जाए और अन्य मामलों का समाधान निर्वाचित सरकार द्वारा किया जाने दिया जाए।’ यह बैठक केंद्र द्वारा घाटी में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की 100 अतिरिक्त कंपनियां भेजे जाने के बाद हुई है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.