Tuesday, Nov 24, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 24

Last Updated: Tue Nov 24 2020 09:19 PM

corona virus

Total Cases

9,200,407

Recovered

8,624,747

Deaths

134,477

  • INDIA9,200,407
  • MAHARASTRA1,784,361
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA871,342
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA557,442
  • NEW DELHI534,317
  • UTTAR PRADESH528,833
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT194,402
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
favipiravir drug will reduce corona crisis in india trials started prsgnt

भारत में कोरोना संकट को कम करेगी फेवीपिरवीर दवा! शुरू हुआ देश में दवा का ट्रायल

  • Updated on 5/9/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस को रोकने और इसका इलाज खोजने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक, डॉक्टर्स और शोधकर्ता रिसर्च में लगे हुए हैं। इस बीच कोरोना वायरस की दवा के रूप में भारत में फेवीपिरवीर दवा का क्लिनिकल ट्रायल शुरू होने जा रहा है

इस बारे में वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR)  के डायरेक्‍टर जनरल शेखर मांडे ने फेवीपिरवीर दवा के क्लिनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी है।

इस बारे में उन्होंने कहा है कि अगर इस दवा का परीक्षण सफल रहा तो जल्द ही कोरोना के इलाज के लिए लोगों को फेवीपिरवीर दवा किफायती दामों पर मिल सकेगी। साथ ही उन्होंने इसके सकारात्मक परिणाम आने की सिफारिश भी की है और बताया है कि दवा के ट्रायल में डेढ़ माह लगेगा।

भारत में कोरोना वायरस के 100 दिन हुए पूरे, जानिए बाकी देशों की तुलना में कहां खड़ा है भारत

क्या है फेवीपिरवीर दवा
ये दवा चीन और जापान जैसे पूर्वी एशियाई देशों में इन्फ्लूएंजा के मरीजों को पहले से दी जा रही एक एंटीवायरल दवा है। इसके अलावा दूसरे कई वायरल संक्रमणों के इलाज में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है ऐसा एक स्टडी में कहा गया है। आगे इसे कोरोना के इलाक में इस्तेमाल करने के लिए इस पर शोध किया जा रहा है।

कोरोना का सबसे खतरनाक सच! आंखों के जरिए तेजी से शरीर में फैल रहा है संक्रमण

कौन बनाता है ये दवा
ये दवा जापान की टोयामा केमिकल बनाती है। बताया जाता है कि 2014 में जापान ने पहली बार इसे दवा के रूप में इस्तेमाल करने की मंजूरी दी थी। साल 2016 में टोयामा केमिकल ने इसका लाइसेंस चीन की एक दवाएं बनाने वाली कंपनी को दिया और 2019 में यह एक जेनेरिक दवा बन गई।

दक्षिण कोरिया ने 3टी मॉडल से जीती कोरोना की जंग, क्या भारत भी अपना सकता है 3टी ?

कैसे काम करती है
इस साल के दूसरे माह में चीन में कोरोना के इलाज के लिए फेवीपिरवीर पर शोध किए जा रहे थे, तब इसमें पाया गया कि यह दवा किसी अन्य दवा के मुकाबले वायरल को तेजी से कम करती है। इसकी पुष्टि के लिए लोगों के सीटी स्कैन भी देखे गये जिनमें काफी सुधार देखा गया। हालांकि कुछ मरीजों का कहना था कि उन्हें इससे कुछ साइड इफेक्ट्स भी हुए।

मंत्रालय ने जारी की नई डिस्चार्ज नीति, क्या आगे और तेजी से बढ़ने वाले हैं कोरोना के मरीज?

क्या कहते हैं वैज्ञानिक
इस बारे में चीन के वैज्ञानिकों का कहना है कि फेवीपिरवीर दवा के जरिये वुहान और शेन्झेन में मरीजों का इलाज किया गया। जिसमें 340 मरीजों पर इस दवा के अच्छे परिणाम मिले हैं। इस बारे में वैज्ञानिकों ने कहा कि ये काफी सुरक्षित है और इसके बेहतर परिणाम मिले हैं जो प्रभावी रहे हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.