Tuesday, Oct 04, 2022
-->
fdci-designers-pledge-against-child-labour-with-kailash-satyarthi

FDCI डिजाइनरों ने कैलाश सत्यार्थी के साथ ली बाल मजदूरी के खिलाफ शपथ

  • Updated on 3/16/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कैलाश सत्यार्थी ने भारतीय परिधान एवं टेक्सटाईल उद्योग में आपूर्ति श्रृंखला को बाल-मजदूरी से मुक्त बनाने के लिए फैशन डिजाइन काउन्सिल आफ इण्डिया के साथ हाथ मिलाए हैं। इस पहल के तहत एक अभियान ‘नोट मेड बाय चिल्ड्रन’ की शुरूआत की गई है। देशी डिजाइनरों को भारत को बाल मजदूरी मुक्त बनाने में योगदान के लिए प्रभावित एवं प्रोत्साहित करना इस अभियान का उद्देश्य है।

एफसीसीआई और फाउंडेशन के इस संयुक्त अभियान की घोषणा नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी तथा एफडीसीआई के अध्यक्ष श्री सुनील सेठी की मौजूदगी में की गई। कार्यक्रम में  15 डिजाइनरों ने एक साथ मिलकर शपथली  ‘‘मैं ऐसे परिधान बनाने की शपथ लेता हूं, जिसमें बाल मजदूरी का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। यह भारत को बाल मजदूरी से मुक्त बनाने की दिशा में मेरा एक योगदान है।’

बाल दिवस पर रस्म अदायगी और बयानबाजी नहीं, बल्कि बच्चों पर पैसे खर्च करें सरकारें: सत्यार्थी

कर्यक्रम में हिस्सा लेने वाले डिजाइनरों में नम्रता जोशीपुरा, अंजना भार्गव, अमित विजयन और रिचर्ड पांडव (एमरिच), प्रियदर्शिनी राव, अंजु मोदी, गौतम राखा (रबानी औ रराखा), चारू पाराशर, पंकज आहुजा (पंकजऔरनिधी), पारस बैरोलिया (गीशाडिजाइन), राहुल मिश्रा, रेनु टंडन, रीना ढाका, सामंत चैहन और वरूण बहल शामिल थे।

कठुआ रेप कांड से दुखी सत्यार्थी बोले- संसद का एक दिन बच्चों को सर्मिपत करें सियासी दल

इस मौके पर नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा, ‘‘फैशन संस्कृति, रचनात्मकता एवं उत्साह के संयोजन के साथ अपने उंचे उद्देश्यों को हासिल कर सकता है। ‘नोटमेडबायचिल्ड्रन’एक अनूठा अवसर है जिसके माध्यम से डिजाइनर, ब्राण्ड एवं उपभोक्त अपनी भीतरी और बाहरी खूबसूरती को दुनिया के सामने ला सकते हैं।’

श्री सुनील सेठी, एफडीसीआई, प्रेजीडेन्ट ने कहा, ‘‘यह एसोसिएशन मेरे अैर एफडीसीआई सदस्यों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। हमारा मानना है कि यह फैशन सेक्टर को बाल मजदूरी से मुक्त बनाने की दिशा में पहला कदम है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.