Monday, Nov 28, 2022
-->
fee-hike-in-allahabad-university-nsui-opens-front-against-bjp-government

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि : NSUI ने भाजपा सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा 

  • Updated on 9/28/2022

.नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इलाहाबाद विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि के खिलाफ चल रहे छात्र आंदोलन में शामिल होने बुधवार को यहां आए आए भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन ने कहा कि मौजूदा भाजपा सरकार सत्ता के नशे में सोई हुई है और इसे जगाने के प्रयास वह प्रयागराज से दिल्ली तक करेंगे। यहां आंदोलनरत छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कुंदन ने कहा, च्च्सत्ता के ओवरडोज से यह सरकार गहरी नींद में है। सरकार फीस बढ़ाकर चाहती है कि किसी गरीब, मजदूर और पिछड़े का बेटा उच्च शिक्षा हासिल न कर ले।’’  उन्होंने कहा, च्च्भाजपा और आरएसएस के राष्ट्रवाद में गरीबों से शिक्षा का हक छीना जा रहा है। जियो विश्वविद्यालय की एक ईंट तक नहीं लगी, उसकी बिल्डिंग तक नहीं बनी, लेकिन उसको यह सरकार मान्यता दे देती है। जिस तरह से एक-एक कर सबकुछ बेचा जा रहा है, उसी तरह से हमारे सरकारी विश्वविद्यालयों को भी सरकार बेचना चाहती है।’’   

72 वर्षीय आर. वेंकटरमणी देश के नए एटार्नी जनरल नियुक्त, वेणुगोपाल का लेंगे स्थान 

  कुंदन ने कहा, च्च्सरकार ने हवाई अड्डे, रेलवे स्टेशन आदि बेच दिए, अगला निशाना विश्वविद्यालय है। पिछले आठ सालों में अगर किसी का विकास हुआ है तो इन उद्योगपतियों का विकास हुआ है। अडानी, अंबानी का विकास हुआ है। आज अडानी विश्व का दूसरा सबसे अमीर व्यक्ति बन चुका है।’’   इस बीच, विद्याॢथयों ने विश्वविद्यालय के छात्र संघ के गेट के पास कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के लापता होने की सूचना का पोस्टर लगा दिया। इस पोस्टर में लिखा है कि कुलपति काफी समय से लापता हैं और विद्यार्थी उन्हें एक महीने से खोज रहे हैं।  पोस्टर में यह भी लिखा है कि कुलपति को अंतिम बार दिल्ली की उड़ान लेते हुए देखा गया था। जो भी व्यक्ति हमें कुलपति महोदया से मिलवा देगा, हम सभी छात्र उनके आजीवन ऋणी रहेंगे।    

भाजपा को सिर्फ सपा ही हरा सकती है : अखिलेश यादव 

 कुंदन के संबोधन से पहले, छात्राओं ने सभा को संबोधित करते हुए विश्वविद्यालय में विभिन्न मूलभूत सुविधाओं की कमी के चलते आ रही समस्याएं गिनाईं। बीए की छात्रा रजनी ने कहा, ‘‘ जब इस विश्वविद्यालय को पहली महिला कुलपति मिलीं तो हमने सोचा कि वह एक नया इतिहास रचेंगी। लेकिन उन्होंने तो 300 प्रतिशत फीस वृद्धि का इतिहास रच दिया।’’  छात्रा रेनू पासवान ने कहा कि महिला छात्रावास में गंदगी का यह आलम है कि चलते फिरते मच्छर काटते हैं।   

NSE मामला: हाई कोर्ट ने चित्रा रामकृष्ण, आनंद सुब्रमण्यन को दी जमानत

    एमए की छात्रा स्वाति सिंह ने कहा, ‘‘ विश्वविद्यालय में पीरियड (माहवारी) हो जाए तो पैड बदलने के लिए शौचालय नहीं है। शौचालय में ताले लगे हैं। छात्राएं कब से पिंक शौचालय की मांग करती रही हैं, लेकिन विश्वविद्यालय की कुलपति महिला होने के बावजूद वह महिलाओं की दिक्कत नहीं समझतीं।’’  इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र पिछले 22 दिनों से फीस वृद्धि के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं और पिछले आठ दिनों से आमरण अनशन पर बैठे हैं। उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के स्नातक स्तर की शिक्षा की फीस प्रति छात्र 975 रुपये प्रतिवर्ष थी जिसे हाल में 300 प्रतिशत से अधिक बढ़ाकर 4,151 रुपये प्रति वर्ष कर दिया गया है। इस फीस वृद्धि को वापस लेने की मांग के साथ छात्र-छात्राएं आंदोलन कर रहे हैं।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.