ऑफिस के काम का तनाव बना सकता है हार्ट अटैक का शिकार, शोध

  • Updated on 11/17/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  तनाव शरीर को धीरे-धीरे खत्म कर देता है। तनाव किसी भी चीज का हो सकता है। कई बार छोटी-छोटी चीजें भी परेशान करती हैं जो बाद में तनाव का रुप ले लेती हैं। तनाव के बढ़ने से शरीर में कोलेस्ट्राल बढ़ जाता है जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। कई बार ऑफिस में काम का दबाव और बॉस के बुरे व्यवहार से तनाव पैदा हो जाता है जो आपके लिए खतरा साबित हो सकता है। 

सर्दियों में शहद का सेवन है बेहद लाभदायक, जानें शहद के 10 बड़े फायदे

ऑफिस में बॉस की काम के दौरान डांट फटकार लाजिमी है और कई बार इससे तनाव हो जाता है। लेकिन शाम को ऑफिस से निकलने के बाद अगर स्ट्रेस घर तक ले कर जा रहे हैं और तनाव आपको ऑफिस से निकलने के बाद भी परेशान कर रहा है तो खतरनाक साबित हो सकता है। इससे खतरे का संकेत मानते हुए सचेत रहें। 

स्पेन की शोधकर्ता ने पाया है कि ऑफिस का माहौल खराब होने पर शरीर में परेशान करता है जिससे बैड कोलेस्ट्राल घेर लेता है। इसके अलावा गलत खान-पान, स्मोकिंग, शराब का सेवन ये सभी तनाव को और बढ़ाते हैं। इससे स्ट्रेस डाइस्लिपीडीमिया की बीमारी हो जाती है जो खून में फैट और लिपोप्रोटीन के स्तर को बढ़ावा देती है। ऑफिस में काम के दबाव से होने वाले तनाव से चिड़चिड़ापन, उदासी, काम में मन ना लगना, नींद ना आना, समाज के प्रति उदासीनता, सेक्स ड्राइव में कमी, बुरी लत लगने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। 

आपकी थाली में परोसा गया मीट हलाल का है या नहीं, अब आप भी कर सकेंगे पहचान

वहीं अगर आप लगातार बारह महीनों से अपने काम के दौरान दिक्कतों का सामना कर रहे वर्कर्स डाइस्लिपीडीमिया होने का खतरा पाया जाता है। वैज्ञानिकों का मनाना है कि जो लोग जॉब स्ट्रेस के शिकार होते हैं उन्हें बैड कोलेस्ट्रॉल जल्दी घेरता है और जिसके चलते आर्टरीज ब्लॉक होने का खतरा बढ़ जाता है जिससे हार्ट अटैक की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.