Monday, Sep 20, 2021
-->
fir registered against former mumbai police commissioner parambir singh for extortion rkdsnt

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर के खिलाफ रंगदारी मांगने के आरोप में FIR

  • Updated on 7/23/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह के खिलाफ एक बिल्डर के रिश्तेदार से कथित तौर पर रंगदारी वसूलने और फिरौती के लिए अपहरण करने के आरोप में एक और मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।  उन्होंने कहा कि ठाणे में शुक्रवार को दर्ज की गई प्राथमिकी (एफआईआर) में डीसीपी रैंक के एक अधिकारी और तीन अन्य का भी नाम है।  

फिर आप उन लोगों को किसान बोल रहे हैं...मवाली हैं वे लोग: मीनाक्षी लेखी
 

शिकायतकर्ता शरद अग्रवाल ने शुक्रवार तड़के ठाणे के कोपरी पुलिस थाने में संपर्क किया और परम बीर सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, जो पहले ठाणे पुलिस प्रमुख के रूप में कार्यरत थे। अन्य आरोपियों की पहचान मुंबई पुलिस के डीसीपी रैंक के अधिकारी पराग मानेरे, संजय पुनामिया, सुनील जैन और मनोज घोटकर के रूप में हुई है। अग्रवाल द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, आरोपियों ने कथित तौर पर उससे दो करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी और उसकी जमीन का जबरन अधिग्रहण कर लिया। 

ममता बनर्जी ने पेगासस प्रकरण को ‘वाटरगेट’ से ज्यादा खतरनाक करार दिया

मुंबई पुलिस ने बताया कि श्याम सुंदर अग्रवाल ने शिकायत दी थी कि परमबीर सिंह, पांच अन्य पुलिस अधिकारियों और दो अन्य लोगों ने उनके खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने के लिए 15 करोड़ रुपये मांगे थे। शिकायत मिलने के बाद बुधवार को आरोपियों के खिलाफ रंगदारी, धोखाधड़ी और जालसाजी के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई।

पेंशन नियमों में बदलाव का मोदी सरकार ने किया बचाव

शरद अग्रवाल श्यामसुंदर अग्रवाल के भतीजे हैं। पुलिस ने कहा कि शिकायत के आधार पर, आईपीसी की धारा 384, 385, 388, 389, 420, 364ए, 34 और 120बी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। मामले में जांच जारी है। उन्होंने कहा कि मामले के दो आरोपी पुनामिया और जैन को मुंबई पुलिस पहले ही दक्षिण मुंबई के मरीन ड्राइव में दर्ज मामले में गिरफ्तार कर चुकी है।

मोदी सरकार ने BPCL के निजीकरण को सुगम बनाने के लिए बढ़ाई FDI सीमा

मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के पास एक वाहन मिलने पर बर्खास्त किये गए पुलिस अधिकारी सचिन वाजे की गिरफ्तारी के बाद इस साल मार्च में परमबीर सिंह को मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से हटा दिया गया था। उस वाहन में विस्फोटक सामग्री रखी मिली थी। बाद में सिंह ने राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया।

पुलिस कर्मियों के ट्रांसफर, सचिन वाजे की बहाली की CBI कर सकती है जांच : अदालत 

 

 

 

 

 

comments

.
.
.
.
.