Friday, Feb 26, 2021
-->
fir registered against these leaders including rakesh tikait for violating noc rules sohsnt

ट्रैक्टर रैली में NOC के नियमों का उल्लंघन करने पर राकेश टिकैत समेत इन नेताओं के नाम FIR दर्ज

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली में ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के दौरान एनओसी (NOC) के नियमों का उल्लंघन करने के मामले में दिल्ली पुलिस ने कई किसान नेताओं के नाम एफआईआर (FIR) दर्ज की हैं, इन नेताओं में दर्शन पाल, राजिंदर सिंह, बलबीर सिंह राजेवाल, बूटा सिंह बुर्जगिल और जोगिंदर सिंह उग्रा समेत भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का नाम भी शामिल है।

किसान हिंसा के बाद बयान से पलटे किसान नेता, पढ़ें- पहले और बाद की प्रतिक्रिया


हिंसा के संबंध में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज
बता दें कि दिल्ली पुलिस  ने राष्ट्रीय राजधानी में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के संबंध में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज की हैं। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि हिंसा में 300 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। अधिकारी ने बताया कि मंगलवार को हुई हिंसा में शामिल किसानों की पहचान करने के लिए कई सीसीटीवी फुटेज और तमाम वीडियो को खंगाला जा रहा है और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस बारे में अन्य जानकारी साझा करने को दिल्ली पुलिस आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी।

ट्रैक्टर परेड में मचे बवाल के बाद रद्द हो सकता है बजट के दिन किसान संगठनों का 'संसद मार्च'!

32 किसान संगठनों के प्रतिनिधि की भी बैठक
अतिरिक्त पीआरओ (दिल्ली पुलिस) अनिल मित्तल ने बताया कि मंगलवार को हुई हिंसा के मामले में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं। उन्होंने बताया कि हिंसा में 300 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के एकीकृत संगठन संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा पर चर्चा के लिए बुधवार को एक बैठक भी बुलाई है। इससे पहले सिंघू बॉर्डर पर पंजाब के 32 किसान संगठनों के प्रतिनिधि भी एक बैठक करेंगे।

घायल पुलिसकर्मी की आपबीतीः तलवारें, भाले, डंडे और हथियार लेकर लाल किले पर आए थे प्रदर्शनकारी

नियमों का किया गया जमकर उल्लंघन
सकेएम की ओर से गणतंत्र दिवस के मौके पर किसान ट्रैक्टर रैली का प्रस्ताव पेश किया गया था। ट्रैक्टर परेड के संबंध में मोर्चा के साथ दिल्ली पुलिस की कई दौर की बैठक हुई थी। पुलिस ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा ने चार मार्गों पर शांतिपूर्ण परेड निकालने का आश्वासन दिया था, लेकिन मंगलवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे छह से सात हजार ट्रैक्टर सिंघू बॉर्डर पर एकत्र हो गए और तय मार्गों के बजाय मध्य दिल्ली की ओर जाने पर जोर देने लगे।

राहुल गांधी ने फिर की मोदी सरकार से कृषि कानून वापस लेने की मांग

राकेश टिकैत ने लोगों से एक वीडियों में कही थी ये बात 
वहीं दूसरी ओर ट्रैक्टर रैली में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद से किसानों के नेता राकेश टिकैत का एक पुराना वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें वह किसानों की परेड में जाने से पहले कहते दिख रहे हैं कि लाठी- डंडे साथ लेते आएं, और कह रहे हैं कि अब जमीन भी न बचेगी। वीडियो में वो लोगों से कहते दिख रहे हैं कि सरकार मान नहीं रही, ज्यादा कहनी पड़ रही है। अपना ले अइयो झंडा-झुंडा भी लागाना, लाठी-गोटी भी साथ रखियो अपनी। झंडा लगाने के लिए आओ, समझ जइयो सारी बात। ठीक है? झंडा, लगेगा तिरंगा भी झंडा और ऐसा भी लगा लियो उसपे। और आ जाओ बस अब, बहुत हो लिया। आ जाओ जमीन बचाने के लिए, आ जाओ अपनी जमीन नहीं बच रही। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.