Sunday, Mar 07, 2021
-->
first 300 million people to get corona vaccine learn the answer to every question pragnt

पहले 30 करोड़ लोगों को मिलेगी कोरोना वैक्सीन! क्या पैसे भी देने होंगे? जानें हर सवाल का जवाब

  • Updated on 11/7/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के बीच उम्मीद है कि अगले साल की शुरुआत तक वैक्सीन आ जाएगी। भारत बायोटेक अगले साल के फरवरी तक अपनी वैक्सीन 'कोवैक्सीन' लॉन्च कर सकती है। वैक्सीन के ऐलान के बाद ही भारत ने कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान की तैयारी शुरू दी है। बता दें कि वैक्सीन आने पर देश के 30 करोड़ लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी। ऐसे में सबसे पहले वैक्सीन पाने वाले 30 करोड़ लोग कौन होंगे और किसे प्राथमिकता दी जाएगी, इसके लिए सरकार ने चार कैटेगरीज तैयार की है।

इस प्रॉयरिटी लिस्ट में हेल्थकेयर प्रोफेशनल्‍स, फ्रंटलाइन वर्कर्स को सबसे पहले वैक्सीन दी जाएगी लेकिन यहां भी देख जाएगा कि इन्फेक्शन का खतरा किसमें ज्यादा है। इसके बाद 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को दी जाएगी। अनुमान लगाया जा रहा है कि लगभग 30 करोड़ लोगों के लिए 60 करोड़ टीके की जरूरत पड़ेगी। बता दें कि भारत बायोटेक की वैक्सीन के सफल होते ही टीका लगना शुरू हो जाएगा।

पंजाब: CM कैप्टन अमरिंदर सिंह होम क्वारंटाइन, संक्रमित अधिकारी के आए थे संपर्क में

कोरोना वैक्सीन की किसे कितनी जरूरत है इसके लिए एक फ्रेमवर्क तैयार किया गया है। इसमें तय गया है कि पहले किसे वैक्सीन देनी है। ऐसे में वैक्सीन को लेकर प्रॉयरिटी लिस्‍ट में चार कैटेगरीज हैं-

एक करोड़ हेल्थकेयर प्रोफेशनल्‍स: संकट की घड़ी में अपनी जान की परवाह किए बिना दिन रात लोगों को बचा रहे कोरोना वॉरियर्स को सबसे पहले यह वैक्सीन दी जाएगी। इनमें डॉक्टर, नर्स और आशा वर्कर्स के अलावा एमबीबीएस के छात्र भी शामिल हैं। बता दें कि इस समय देश में एक करोड़ से अधिक हेल्थकेयर प्रोफेशनल्‍स हैं। 

दो करोड़ से ज्यादा फ्रंटलाइन वर्कर्स: हेल्थकेयर वर्कर्स के बाद इस वैक्सीन की सबसे ज्यादा जरूरत देश के 2 करोड़ से ज्यादा फ्रंटलाइन वर्कर्स को हैं। इसमें नगर निगम के कर्मी, पुलिसकर्मी और सशस्त्र बलों से संबंधित कर्मियों को शामिल किया गया है।

50 साल से ज्यादा उम्र के 26 करोड़: हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स के बाद बुजुर्गों को कोरोना से संक्रमित होने का ज्यादा खतरा है, इसलिए 50 साल से ज्‍यादा उम्र वाले करीब 26 करोड़ लोगों को यह वैक्सीन दी जाएगी। इसका मतलब यह है कि जिनकी उम्र 50 साल या इससे अधिक होगी उसे प्राथमिकता दी जाएगी।

स्पेशल कैटेगरी के 1 करोड़ लोग: इस श्रेणी में उन लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी जो 50 साल से कम उम्र के हैं मगर पहले से ही किसी न किसी बीमारी से ग्रसित हैं।

इन लोगों को मिलेगी फ्री वैक्सीन: लोगों को फ्री वैक्सीन देने के लिए उन्हें आधार कार्ड के जरिए ट्रैक किया जाएगा। हालांकि फ्री वैक्सीन के लिए आधार का होना जरूरी नहीं है। वहीं अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं भी है तब भी वह टीका पा सकता है लेकिन ऐसी स्थिति में उसके पास कोई भी सरकारी पहचान पत्र होना चाहिए जिसमें उसकी फोटो भी लगी हो।

दिल्ली में हर दिन कोरोना का टूट रहा रिकॉर्ड, पहली बार 7000 से ज्यादा मामले, ICU वार्ड में आई कमी

देश में कोरोना का कहर
देशभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। भारत (India) में कोरोना से 84,62,081 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 1,25,562 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि राहत की बात ये है कि 78,19,887  इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों (Active Cases) की कुल संख्या 5,16,632 है। 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें....

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.