Wednesday, Jun 16, 2021
-->
first cng tractor launched in india sohsnt

भारत में लॉन्च हुआ CNG से चलने वाला पहला ट्रैक्टर, जानें क्या होंगे फायदे

  • Updated on 2/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में अब सिर्फ गाड़ियां ही नहीं बल्कि ट्रैक्टर (tractor) भी सीएनजी से चलेंगे। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने बीते शुक्रवार को सीएनजी (CNG) से चलने वाला देश का पहला ट्रैक्टर लॉन्च कर दिया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा, अब ट्रैक्टर सिर्फ डीजल पर निर्भर नहीं रहेंगे। उन्हें चलाने के लिए हमारे पास दूसरा विकल्प आ गया है। सीएनजी से चलने वाले ट्रैक्टर के फायदे बताते हुए गडकरी ने कहा किसान सीएनजी के इस्तेमाल से एक साल में एक लाख रुपए तक की बचत कर सकेंगे। इतना ही नहीं बल्कि ये टैक्टर वायु प्रदूषण कम करने में काफी मददगार साबित होंगे।

भारत में घटिया गाड़ियां बेचने वाली कंपनियों पर सरकार का एक्शन, बिक्री बंद करने का दिया आदेश

15 साल तक इस्तेमाल कर सकेंगे ट्रैक्टर
सीएनजी ट्रैक्टर का इस्तेमाल करने वाले किसानों के लिए पहला फायदा ये होगा कि उन्हें डीजल ट्रैक्टर के मुकाबले सीएनजी ट्रैक्टर पर कम खर्च करना होगा। दूसरा बड़ा फायदा ये होगा कि नए उत्सर्जन मानक के तहत ट्रैक्टर चलाने पर प्रतिबंध नहीं लगेगा। किसान इस ट्रैक्टर का इस्तेमाल 15 साल तक कर सकेंगे। हालांकि अभी सीएनजी ट्रैक्टर को लेकर तकनीकी में किए गये बदलाव की कीमत के बारे में अभी कुछ नहीं बताया गया है।

नितिन गडकरी ने कहा- वाहन कबाड़ नीति में नए वाहनों की खरीद पर मिलेंगे कई लाभ

कुछ समय बाद काफी सस्ती होगी तकनीक 
ट्रैक्टर में इस्तेमाल की गई इस नई तकनीक के बारे में अधिक जानकारी देते हुए गडकरी ने बताया कि शुरूआत में तकनीक का इस्तेमाल करने पर खर्चा ज्यादा आ सकता है, लेकिन बाद में काफी सस्सी हो जाती है। सस्ती तकनीक होने के नाते इसे छोटे किसान भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा डीजल से सीएनसी में बदलने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करनी होगी। इसके लिए सरकार गांव और कस्बों में ही डीजल से सीएनजी में बदलने की तकनीक संबंधी केंद्र खोलेगी। 

टाटा एचबीएक्स ऑटोमेटिक इन बेहतरीन फीचर्स के साथ जल्द भारत में होगी लॉन्च

बड़े स्तर पर लोगों को मिलेगा रोजगार
केंद्रीय मंत्री ने आगे बताया कि प्रथम चरण में शहरों में नगर बसों, टैक्सी, कारों और बाइक को वैकल्पिक ईंधन पर लाया जाएगा। इसके बाद धीरे-धीरे इसे अंतरराज्यीय सार्वजनिक बस सेवा और ट्रकों को वैकल्पिक ईंधन पर बदला जाएगा। उन्होंने कहा इस योजना के शुरू होते ही बड़े स्तर पर लोगों को रोजगार मिलेगा। बता दें कि इस योजना के तहत सरकार हर साल पेट्रोलियम पदार्थ पर होने वाले खर्च को कम करना चाहती है।

मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स और हुंडई की बिक्री में इजाफा, महिंद्रा को मिली निराशा

इस मौके पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मोद्र प्रधान ने कहा कि ईंधन खपत के मामले में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर आता है, चीन पहले और अमेरिका इस मामले दूसरे स्थान पर आते हैं। ऐसे में सड़क परिवहन के साथ मिलकर वैकल्पिक ईंधन पर जोर दिया जा रहा है।

यहां पढ़ें ऑटो सेक्टर से जुड़ी अन्य खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.