Sunday, Sep 26, 2021
-->
first consignment covishield vaccine departs serum has signed a deal for 11 mn doses prshnt

कोविशील्ड वैक्सीन की पहली खेप हुई रवाना, जानें सीरम इंस्टीट्यूट कितने खुराक के लिए किया है सौदा

  • Updated on 1/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में कोहराम मचा रहे कोरोना महामारी (Corona Pandamic) से अब जल्द ही राहत मिल जाएगा, कोविड वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) का इस्तेमाल शुरू होने जा रहा है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के पुणे स्थित हेडक्वार्टर से कोविशील्ड वैक्सीन को पूरे देश में रवाना करना शुरु कर दिया गया है। पूरे देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरु कर दिया जाएगा। 

पुणे स्थित फर्म कोरोनवायरस के खिलाफ ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के भारतीय संस्करण कोविशिल्ड की 11 मिलियन खुराक की आपूर्ति के लिए केंद्र सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के साथ एक डील पर हस्ताक्षर किए हैं।

लद्दाख की ठंड देख भागे 10 हजार चीनी सैनिक, भारतीय जवानों पर नहीं हो रहा असर

16 जनवरी से कोविड-19 के खिलाफ सामूहिक टीकाकरण की शुरुआत
एसआईआई सड़क और हवा सहित परिवहन के कई साधनों से खुराक भेजी जाएगी। पुणे में एसआईआई के अधिकारियों ने कहा कि खेपों को निकटतम हवाई अड्डे पर भेजा जाएगा और फिर डिपो में ले जाया जाएगा। एसआईआई के अधिकारियों ने कहा कि महाराष्ट्र और गुजरात और चेन्नई सहित कुछ 60 स्थानों का खेप सूची में है। एसआईआई ने भारत में लाइसेंस के तहत वैक्सीन का निर्माण किया है।

देश 16 जनवरी को कोविड-19 के खिलाफ अपने सामूहिक टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत करेगा। लगभग 3 करोड़ हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन कर्मचारी शॉट प्राप्त करने के लिए पहली पंक्ति में होंगे। डॉ वी के पॉल ने कहा कि अगले तीन महीनों में कम से कम 70 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को वैक्सीन का प्रबंध किया जाएगा

Farmers Protest: नए कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट आज सुना सकता है फैसला

वैक्सीन के प्रतिबंधित उपयोग के लिए भारत की मंजूरी
पूनावाला समूह के चेयरमैन डॉ साइरस पूनावाला, जो एसआईआई का हिस्सा हैं, ने पुष्टि की कि सरकार के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। हम अगले हफ्ते एक बड़े ऑर्डर की उम्मीद कर रहे हैं। एसआईआई और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक को ड्रग कंट्रोलर जनरल की 3 जनवरी को कोविड-इमरजेंसी स्थिति में अपने कोविड-19 वैक्सीन के प्रतिबंधित उपयोग के लिए भारत की मंजूरी मिली।

मजूरी के बाजद एसआईआई के सीईओ अदार पूनावाला ने घोषणा की थी कि एसआईआई कोविशिल्ड के पहले 100 मिलियन खुराकों के लिए सरकार को 200 रुपये प्रति डोस के विशेष मूल्य की पेशकश करेगा। 

भारतीय युवा को ऊर्जा से भरने वाले थे स्वामी जी के बोल, छोड़ी थी हिंदुत्व की गहरी छाप

कोविशिल्ड की लगभग 40 मिलियन खुराक का निर्माण
सरकार को यह पता चला है कि कोवाक्सिन वैक्सीन के लिए भारत बायोटेक के साथ एक अनुबंध को अंतिम रूप दिया गया है। हालांकि, भारत बायोटेक के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक डॉ. कृष्णा एला या केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से कोई पुष्टि उपलब्ध नहीं थी। एसआईआई या भारत बायोटेक के साथ सौदे के आकार और प्रकृति पर सरकार की ओर से भी कोई पुष्टि नहीं की गई थी।

महामारी की शुरुआत के बाद से, एसआईआई ने कोविशिल्ड की लगभग 40 मिलियन खुराक का निर्माण और संग्रहण किया है, जबकि भारत बायोटेक ने कोवाक्सिन की लगभग 10 मिलियन खुराक बनाई है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.