Wednesday, Jul 24, 2019

फूलों से पड़ता है किस्मत पर प्रभाव, जानें कौन-सा पुष्प रखें पास

  • Updated on 12/18/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। फूल हर किसी को पसंद होतें हैं और हो भी क्यों खूबसूरती के साथ वह खूशबू भी फैलाते हैं लेकिन इसके बावजूद भी हर रोज घर में कम ही लोग फूल रखना पसंद करते हैं।

अगर आप भी उनमें से एक हैं, जिन्हें अपने घर में या अपने पर्स में फूल रखना पसंद है तो आप इस तरह फूलों से लाभ प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि कुछ फूल ग्रहों को बुरे प्रभावों से मुक्ति दिलाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

 राशि अनुसार उपाय कर 2019 को बनाएं खुशहाल, मिलेगा बुरे वक्त से छुटकारा

रविवार
रविवार को शुभ बनाने के लिए सुबह स्नान के बाद एक लोटा जल सूर्यदेव को अर्पित करें। इसके अलावा आप अपने साथ आक या कुटज के फूल रख सकते हैं, इससे आपका दिन खुशनुमा रहेगा।

सोमवार
इस दिन भगवान शिव की पूजा का विधान होता है। शिवलिंग पर एक लोटा जल अर्पित कर दिन की भक्तिमय शुरुआत की जा सकती है। इस दिन लैवेंडर के फूल अपने साथ रखें।

मंगलवार
मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करने के साथ ही आप लाल रंग के फूल अपने साथ रखें। जैसे लाल गुलहड़ या लाल गुलाब। यह बुध ग्रह से संबंधित होता है।

ग्रह प्रभाव: फूल से बदल सकती है किस्मत,जानें किस दिन कौन सा पुष्प रखें पास

बुधवार
बुधवार को हरे रंग के कपड़े पहनने चाहिए। हरी चीजों का सेवन और दान करना शुभ होता है। इस दिन लिली के फूलों से घर सजाएं।

पूजा के बाद इस वजह से किया जाता भगवान शिव के मंत्र का जाप

गुरुवार
इस दिन पीले वस्त्र पहनें, गुरुवार देव गुरु बृहस्पति का दिन होता है। इस दिन पीले वस्त्र पहने और पीला कनेर देवगुरु को अर्पित करें। पीले फूलों से घर सजाएं या साथ रखें।

शुक्रवार
शुक्रवार को करें लक्ष्मी पूजा, चढ़ाएं लाल गुलाब। लाल फूल चढ़ाने के बाद अपने साथ जामुनी या बैंगनी रंग के फूल रखें।

शनिवार
शनिवार के लिए काले फूल, नीला और काला रंग शनि को प्रिय होते हैं। शनि के दोषों से मुक्ति पाने के लिए काली वस्तुओं का दान करना चाहिए। साथ ही नीले रंग के फूल अपने साथ रखने चाहिए। आप नीले लाजवंती के फूल या मरून और काले गुलाब भी अपने साथ रख सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.