Monday, May 10, 2021
-->
fmcg companies can increase prices, pressure to increase raw material prices pragnt

कोरोना संकट के बीच लगेगी महंगाई की चपत, साबुन- तेल समेत इन चीजों में होगा भारी इजाफा

  • Updated on 1/11/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) संकट के बीच महंगाई एक बार फिर उपभोक्ताओं को जोर का झटका देने को तैयार है। उपभोक्ताओं को रोजमर्रा के इस्तेमाल में आने वाले सामना जैसे तेल, साबुन, दंतमंजन और पैकेटबंद सामान खरीदने के लिए आने वाले दिनों में अधिक कीमत चुकानी पड़ सकती है।

शेयर बाजार ने रचा इतिहास, आज सेंसेक्स पहली बार 49,000 से पहुंचा पार, निफ्टी में भी बढ़त

कुछ कंपनियों की स्थिति पर नजर
इनका उत्पादन करने वाली कंपनियां कच्चे माल के दाम बढ़ने की वजह से अपने उत्पादों के दाम बढ़ाने पर विचार कर रहीं हैं। इनमें से कुछ कंपनियों ने तो पहले ही दाम बढ़ा दिए हैं, जबकि कुछ अन्य करीब से स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और मामले पर गौर कर रहीं हैं। रोजमर्रा के उपभोग का सामान बनाने वाली एफएमसीजी मैरिको और कुछ अन्य पहले ही दाम बढ़ा चुकीं हैं, जबकि डाबर, पारले और पतंजलि जैसी अन्य कंपनियां स्थिति पर करीब से निगाह रखे हुए हैं।

भारतीय अर्थव्यवस्था में उछाल का अनुमान, अगले वित्त वर्ष में 8.9% दर से होगी वृद्धि

इसपर पड़ेगा असर
नारियल तेल, दूसरे खाद्य तेलों और पॉम तेल जैसे कच्चे माल का दाम बढ़ने से एफएमसीजी कंपनियां पहले तो इस वृद्धि को खुद ही खपाने का प्रयास कर रही हैं, लेकिन वह लंबे समय तक अपने उत्पादों के दाम को स्थिर नहीं रख पायेंगी क्योंकि ऐसा करने से उनके सकल मार्जिन पर असर पड़ सकता है।

मोदी सरकार ने अघोषित विदेशी संपत्ति की जांच के लिए आयकर विभाग में बनाई न्यू स्पेशल यूनिट

4-5 प्रतिशत की हो सकती है वृद्धि
पारले प्राडक्ट्स के वरिष्ठ श्रेणी प्रमुख मयंक शाह ने कहा, 'पिछले तीन चार माह के दौरान हमने खाद्य तेल जैसे सामान में उल्लेखनीय वृद्धि को देखा है। इससे हमारे मार्जिन और लागत पर असर पड़ रहा है। फिलहाल हमने कोई मूल्य वृद्धि नहीं की है। लेकिन हम स्थिति पर करीबी नजर रखे हुये हैं और यदि कच्चे माल में वृद्धि का क्रम जारी रहता है तो फिर हम दाम बढ़ायेंगे।' उनसे जब मूल्य वृद्धि के बारे में पूछा गया तो शाह ने कहा, 'यह सभी उत्पादों में होगी क्योंकि खाद्य तेल का इस्तेमाल सभी उत्पादों में होता है। यह वृद्धि कम से कम चार से पांच प्रतिशत की हो सकती है।'

स्टील कंपनियों के उत्पाद में हुई वृद्धि, इतने टन रहा उत्पाद

डाबर इंडिया ने कहा ये
डाबर इंडिया के मुख्य वित्तीय अधिकारी ललित मलिक ने कहा कि हाल के महीनों में कुछ खास सामानों जैसे कि आंवला और सोने के दाम में वृद्धि देखी गई है। 'आने वाले समय में हमें कुछ प्रमुख जिंसों में महंगाई बढ़ने की संभावना लगती है। हमारा प्रयास होगा कि कच्चे माल के दाम की वृद्धि को खुद ही वहन करें और केवल कुछ चुने मामलों में ही न्यायोचित मूल्य वृद्धि होगी। यह वृद्धि बाजार की प्रतिस्पर्धा को देखते हुये भी तय हो सकती है।'

रेलवे ने लॉकडाउन में यात्रा के रद्द टिकट के किराए वापसी का बढ़ाया समय

पतंजलि को लेकर कहा ये
हरिद्धार स्थित पतंजलि आयुर्वेद से जब इस बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि वह फिलहाल 'देखो और प्रतीक्षा करो' की स्थिति में है और अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। हालांकि, उनहोंने भी संकेत दिया कि वह भी उसी दिशा में आगे बढ़ रही है। पतंजलि के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने कहा, 'हमारी कोशिश हमेशा यही रहती है कि बाजार में आने वाले उतार चढ़ाव से बचा जाये लेकिन बाजार परिस्थितियां यदि मजबूर करतीं हैं तो हम उस पर अंतिम निर्णय लेंगे।'

होंडा मोटरसाइकिल ने किया अपने कर्मचारियों के लिए VRS का ऐलान

2021 में आएगी महंगाई
सफोला और पैराशूट नारियल तेल जैसे ब्रांड बनाने वाले मैरिको ने कहा कि उनपर महंगाई का दबाव है और इसलिये उन्हें प्रभावी मूल्य वृद्धि का कदम उठाना पड़ा। एडेलवेइस फाइनेंसियल सविर्सिज के कार्यकारी उपाध्यक्ष अबनीश रॉय ने कहा कि पाम तेल, नारियल, खाद्य तेलों जैसे कई कच्चे माल के दाम हाल के दिनों में बढ़े हैं। ऐसे में उपभोक्ता सामान बेचने वाली कंपनियों के लिये 2021 में मूल्य वृद्धि का दौर लौटेगा।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.