Monday, Aug 02, 2021
-->
foreign secretary india china border dispute ladakh border dispute sohsnt

भारत-चीन सीमा विवाद पर विदेश सचिव बोले- 40 सालों में ऐसा कभी नहीं हुआ, यह अभूतपूर्व स्थिति है

  • Updated on 9/5/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटिल। भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर इन दिनों बातचीत की सिलसिला जोरों पर है। ऐसे में विदेश सचिव हर्शवर्धन श्रंगला (Harsh Vardhan Shringla) ने कहा है कि अभी जो स्थिति दोनों देशों के बीच है वो 1962 के युद्ध के बाद कभी नहीं देखी। उन्होंने अभी के हालातों पर कहा, 'यह एक अभूतपूर्व स्थिति है।' मालूम हो कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंगही के बीच शुक्रवार को दो घंटे से अधिक समय तक बैठक हुई जिसमें पूर्वी लद्दाख में सीमा तनाव को कम करने पर जोर दिया गया।

राजनाथ सिंह और चीन के रक्षा मंत्री के बीच हुई वार्ता, सीमा पर तनाव कम करने पर रहा जोर

भारतीय विदेश मामलों की परिषद में श्रंगला ने कहा
नई दिल्ली में भारतीय विदेश मामलों की परिषद द्वारा आयोजित एक वेबिनार में श्रृंगला ने कहा, 'महामारी हमें सम्पर्क बनाये रखने से नहीं रोक सकी, हमने डिजिटल माध्यम के जरिए नई दिल्ली और बीजिंग के बीच सीधे राजनयिक सम्पर्क का उपयोग किया और हम एक दूसरे से इस मुद्दे पर बातचीत कर रहे हैं।

बढ़ी चिंता! WHO ने कहा- अगले साल के मध्य तक नहीं बनेगी कोरोना वैक्सीन

संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता में कोई समझौता नहीं
दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव पर बात करते हुए श्रृंगला ने कहा कि,'जहां तक हमारा संबंध है, हमारी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता में कोई समझौता नहीं होगा, लेकिन, बतौर जिम्मेदार राष्ट्र हम हमेशा बात करने के लिए तैयार हैं। हमारी संचार लाइनें खुली हैं। उन्होंने कहा, 'जब तक हमारे सीमा क्षेत्रों में शांति नहीं होगी, तब तक हमारे व्यवसाय सामान्य रूप से नहीं चल सकते। इसके साथ ही उन्होंने कहा, इससे सामान्य द्विपक्षीय संबंध प्रभावित होंगे।

बड़ी खबर ! ताइवान ने मार गिराया चीन का लड़ाकू विमान सुखोई- 35, देखें वीडियो

सीमा विवाद पर पहली उच्च स्तरीय बैठक
मालूम हो कि पूर्वी लद्दाख में मई में सीमा पर हुए तनाव के बाद से दोनों ओर से रक्षा मंत्रियों की यह पहली उच्च स्तरीय बैठक थी। इससे पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल गतिरोध दूर करने के लिए चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ फोन पर बातचीत कर चुके हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बातचीत के दौरान सिंह ने पूर्वी लद्दाख में यथा स्थिति को बनाए रखने और सैनिकों को पीछे हटाने पर जोर दिया। रक्षा मंत्री सिंह और चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंगही के बीच यह बैठक दो घंटे 20 मिनट तक चली।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.