Sunday, Jan 26, 2020
Former CJI raises questions on citizenship bill advises government on Hyderabad Encounter

पूर्व CJI ने नागरिकता बिल पर उठाया सवाल, हैदराबाद इनकांउटर पर सरकार को दी यह सलाह...

  • Updated on 12/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता बिल पर देश भर में उठते विरोध स्वर के बीच सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के पूर्व चीफ जस्टिस आरएम लोढ़ा ने यह कहकर इस बिल की आलोचना की है संविधान के बुनियादी सवालों को इसमें जगह नहीं दी गई है। हालांकि उन्होंने कहा कि कानून बनने के बाद ही इसपर कुछ कहा जा सकता है। साथ ही उन्होंने हैदराबाद इनकांउटर (Hyderabad Encounter) पर भी सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि आज हम मानवाधिकार दिवस मना रहे है लेकिन लगता है कि हम लोग इसके मूलभूत बातों को ही भूल गए है। वे आज मानवाधिकार दिवस पर एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

सिख विरोधी दंगा: 198 मामलों पर SIT ने बंद लिफाफे में SC को सौंपी रिपोर्ट, होगा विचार

खून के बदले खून कभी न्याय नहीं होता
उन्होंने कहा कि खून के बदले खून न्याय कभी नहीं होता है। ऐसा लगता है कि हम सभी हम्मूराबी सभ्यता की ओर वापस लौट रहे है जहां हिंसा के बदले हिंसा को ही न्याय कहा जाता था। उन्होंने कहा कि हैदराबाद इनकांउटर की जांच होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि पिछले 30 साल से पुलिस रिफोर्म का मुद्दा अटका हुआ है, जिस पर ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार आज पूरे बजट का न्यायपालिका पर महज 0.08 फीसदी खर्च ही करता है।
 

comments

.
.
.
.
.