Sunday, Nov 28, 2021
-->
former-cm-of-chhattisgarh-ajit-jogi-passed-away-know-about-him-prsgnt

इंजीनियरिंग पढ़कर IPS-IAS की नौकरी करने के बाद मुख्यमंत्री पद ग्रहण करने वाले पहले सीएम थे अजीत जोगी

  • Updated on 5/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। छत्तीसगढ़ के पहले सीएम अजीत जोगी का लंबी बीमारी के बाद आज निधन हो गया। वो 74 साल के थे। उनके बेटे अमित जोगी ने ट्विटर पर इसकी जानकारी दी। बताया जा रहा है कि जोगी कई दिनों से कोमा में थे। उन्हें 9 मई को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

कलेक्टर बन की थी शुरुआत
बताया जाता है कि अजीत जोगी राजनीति में आने से पहले आईएएस अधिकारी थे। उन्होंने इंदौर और रायपुर के अलावा कई बड़े जिलों के कलेक्टर भी रहे। इसी दौरान उनकी मुलाकात तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के संपर्क में आए और साल 1986 तक जोगी ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया था। इसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़ कर राजनीती का रुख किया।

छत्तीसगढ़ के पूर्व CM अजीत जोगी का हुआ निधन, 74 की उम्र में ली अंतिम सांस

ऐसे बने छत्तीसगढ़ के सीएम
अजीत जोगी 1986 से साल 1998 तक राज्यसभा के सदस्य रहे, इसी बीच 1998 में रायगढ़ से जोगी लोकसभा सांसद चुने गए थे। इसके बाद साल 2000 में छत्तीसगढ़ के अलग राज्य बनने पर कांग्रेस ने अजीत जोगी को बिना देरी किए उन्हें वहां का सीएम बना दिया। जोगी 2003 तक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रहे।

योगी सरकार ने 7.50 लाख प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने के लिए बनाया प्लान, करेगी समझौते पर हस्ताक्षर

कांग्रेस से बगावत
फिर ऐसा समय भी आया जब अजीत जोगी ने कांग्रेस से बगावत की। वो साल 2016 की बात थी जब कांग्रेस का ख़ास चेहरा माने जाने वाले अजीत ने कांग्रेस छोड़ दी और अपनी अलग पार्टी बनाई। उन्होंने अपनी पार्टी का नाम जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ रखा। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस को नीचा दिखाने और हराने के लिए छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में बहुजन समाज पार्टी से हाथ मिलाया। वो बात अलग है कि उनके गठबंधन को 7 सीटें मिली।

मेहनती और पढ़ाकू थे
अजीत जोगी के बारे में बताया जाता है कि वो काफी मेहनती और पढ़ाकू किस्म के व्यक्ति थे। उन्होंने भोपाल से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और कुछ समय के लिए रायपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में अध्यापन का काम भी किया था।

इसके बाद उन्हें सिविल्स में जाने की ललक उठी और फिर जोगी 1968 में सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास कर आईपीएस बने। इसके बाद भी उन्होंने अपने पढ़ने का दौर जारी रखा और फिर दो साल बाद ही जोगी आईएएस  हो गए।

कुछ खास था जोगी में
बताया जाता है कि अजीत जोगी राजनीति पहले ही ऐसे शख्स थे जो आईपीएस और आईएएस दोनों के लिए चुने गये और बकायदा उन्होंने दोनों पदों के लिए दो-दो साल की सेवाएं भी दीं। अजीत जोगी ने 'द रोल ऑफ डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर' और 'एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ पेरिफेरल एरियाज' नाम से दो किताबें भी लिखी हैं। जोगी राजीव गांधी के काफी करीबी माने जाते थे।

निधन पर राष्ट्रिय शोक
अजीत जोगी के निधन के बाद छत्तीसगढ़ में शोक की लहर दौड़ गई है। वर्तमान सीएम भूपेश बघेल ने राज्य में आज से तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। जोगी को सम्मान देने के लिए इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा और किसी तरह के शासकीय समारोह आयोजित ना करने के आदेश दिए गए है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.