Sunday, Sep 26, 2021
-->
four-killed-in-trump-supporter-support-before-biden-harris-election-confirmed-in-us-rkdsnt

अमेरिका में बाइडन-हैरिस के निर्वाचन की पुष्टि से पहले ट्रंप समर्थकों की हिंसा, चार लोग मारे गए

  • Updated on 1/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अमेरिका में लोकतंत्र पर एक अभूतपूर्व हमले के तहत निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हजारों समर्थकों ने यहां स्थित कैपिटल भवन (अमेरिकी संसद भवन) पर हमला किया और वे पुलिस से भिड़ गए। इस घटना में चार लोग मारे गए और राष्ट्रपति तथा उपराष्ट्रपति के रूप में क्रमश: जो बाइडन एवं कमला हैरिस के निर्वाचन को सत्यापित करने की प्रक्रिया बाधित हुई। कांग्रेस ने इस घटना के चलते हुए विलंब के बाद अंतत: बृहस्पतिवार को अपने संयुक्त सत्र में बाइडन तथा हैरिस के निर्वाचन की औपचारिक रूप से पुष्टि कर दी। 

पेंसिल्वेनिया और एरिजोना राज्यों में वोटों पर रिपब्लिकनों की आपत्तियों को सीनेट तथा प्रतिनिधि सभा दोनों द्वारा खारिज किए जाने के बाद ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ मतों को मंजूरी दे दी गई। अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए तीन नवंबर को हुए चुनाव में बाइडन और हैरिस को 306 ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ वोट मिले थे, वहीं ट्रंप और पेंस के खाते में 232 ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ वोट आए थे। वर्मोंट के तीन ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ वोटों की गिनती ने इन दोनों को राष्ट्रपति पद के चुनाव में जीत के लिए आवश्यक 270 से अधिक के जादुई आंकड़े के पार पहुंचा दिया था। 

किसान आंदोलन को लेकर हरसिमरत कौर ने पीएम मोदी से की अपील 

डेमोक्रेटिक पार्टी के 78 वर्षीय नेता बाइडन और पार्टी की भारतीय मूल की नेता 56 वर्षीय हैरिस दोनों 20 जनवरी को क्रमश: राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद की कमान संभालेंगे। दोनों के निर्वाचन के औपचारिक सत्यापन से कुछ घंटे पहले बुधवार को पूरी दुनिया तब हतप्रभ रह गई जब निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों ने सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण को विफल करने के मकसद से कैपिटल भवन पर धावा बोल दिया और इस दौरान अभूतपूर्व ङ्क्षहसा हुई तथा अफरातफरी मच गई। 

दिल्ली दंगे: उमर खालिद के खिलाफ चार्जशीट ‘लीक’ होने पर पुलिस को नोटिस

पुलिस ने कहा कि बुधवार को कैपिटल हिल में हुई हिंसा में चार लोग मारे गए। इनमें एक महिला प्रदर्शनों के बीच एक पुलिस अधिकारी द्वारा गोली चलाए जाने से मारी गई और तीन अन्य लोग-एक महिला तथा दो पुरुषों की मौत कैपिटल ग्राउंड के पास आपात स्वास्थ्य स्थिति जैसे कारणों की वजह से हुई। इसने कहा कि इस दौरान दर्जनों प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया। मेट्रोपॉलिटन पुलिस विभाग के प्रमुख रॉबर्ट कोंटी ने ट्रंप समर्थकों द्वारा की गई हिंसा को एक संवाददाता सम्मेलन में ‘‘शर्मनाक’’ करार दिया। चुनाव नतीजों के संसद से सत्यापन पर टिप्पणी करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘‘यह फैसला राष्ट्रपति पद के इतिहास में उनके पहले महान कार्यकाल की समाप्ति को प्रकट करता है।’’ 

उन्होंने कहा कि वह 20 जनवरी को ‘‘सुव्यवस्थित’’ तरीके से सत्ता का हस्तांतरण करेंगे। ट्रंप ने एक बयान में कहा, ‘‘चूंकि चुनाव के नतीजों से मैं पूरी तरह से असहमत हूं और इस तथ्य पर कायम हूं, इसके बावजूद 20 जनवरी को सुव्यवस्थित तरीके से सत्ता का हस्तांतरण होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका को फिर से महान बनाने की लड़ाई की यह महज शुरुआत है।’’ इसके साथ ही उन्होंने चुनाव में धांधली के आरोपों को दोहराया। कांग्रेस के संयुक्त सत्र में चुनाव नतीजों के सत्यापन से संबंधित कार्यवाही ट्रंप समर्थकों के उत्पात के चलते कई घंटे तक बाधित रही। इमारत से प्रदर्शनकारियों को बाहर निकाले जाने के बाद सत्र फिर शुरू हुआ और कार्यवाही सारी रात चलती रही। 

बदायूं कांड : अपने बयान को लेकर ट्रोल हुईं महिला आयोग की सदस्या, विपक्ष ने उठाए सवाल 

उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने सीनेट सत्र को फिर से व्यवस्थित किया और सत्यापन की प्रक्रिया आगे बढ़ी। पेंस ने राज्यों के सभी ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ मतों की गिनती के बाद कहा, ‘‘सीनेट के अध्यक्ष द्वारा वोटों के बारे में की गई घोषणा अमेरिका के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के निर्वाचित होने की पर्याप्त घोषणा होगी और दोनों का कार्यकाल 20 जनवरी 2021 से शुरू होगा।’’      कैपिटल हिल पर हजारों ट्रंप समर्थकों के धावा बोलने के कारण सांसदों को अपने चैंबर छोडऩे को मजबूर होना पड़ा और सत्यापन की प्रक्रिया में कई घंटों की देरी हुई। 

प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने अफरातफरी के कुछ घंटे बाद घोषणा की कि पुलिस ने कैपिटल भवन की सुरक्षा की। उन्होंने कहा, ‘‘आज, हमारे लोकंतत्र पर एक शर्मनाक हमला हुआ। इसे सरकार के उच्चतम स्तर पर समर्थन प्राप्त था। हालांकि, यह हमें जो बाइडन के निर्वाचन को सत्यापित करने के हमारे दायित्व से नहीं रोक सकता।’’ हिंसा के बीच बाइडन ने कहा कि वह यह देखकर हतप्रभ और दुखी हैं कि अमेरिका में ‘‘ऐसा अंधकारमय क्षण आ गया है।’’ 

TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने कोर्ट से अवमानना मामले में कार्यवाही रोकने का किया अनुरोध

उन्होंने राष्ट्र के नाम संदेश में कहा, ‘‘इस समय, हमारा लोकतंत्र अभूतपूर्व संकट में है। किसी अन्य चीज के विपरीत हमने यह आधुनिक युग में देखा है। यह स्वतंत्रता के दुर्ग, कैपिटल पर हमला है। यह लोगों के प्रतिनिधियों तथा कैपिटल हिल पुलिस पर हमला है।’’ बाइडन ने कहा, ‘‘मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूं कि कैपिटल में अफरातफरी के ²श्य सच्चे अमेरिका की झलक नहीं हैं। हम जो देख रहे हैं, वे छोटी सी संख्या में चरमपंथी हैं जो अराजकता के प्रति ही सर्मिपत हैं। यह असंतोष नहीं है, यह कुव्यवस्था है। यह अफरातफरी है। यह राष्ट्रद्रोह के समान है और अब इसे खत्म होना चाहिए।’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं राष्ट्रपति ट्रंप का आह्वान करता हूं कि वह राष्ट्रीय टेलीविजन पर आएं और इस घेराबंदी को खत्म करने की मांग कर अपनी शपथ को पूरा करें तथा संविधान की रक्षा करें।’’ हिंसा के बीच हैरिस ने भी यूएस कैपिटल पर ट्रंप समर्थकों के हमले को खत्म करने की मांग की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैं कैपिटल और हमारे देश के लोकसेवकों पर हमले को खत्म करने की निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के आह्वान के साथ हूं।’’ 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

 

  •  
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.