Wednesday, Jan 19, 2022
-->
four-oxygen-plants-of-2500-liters-capacity-set-up-to-deal-with-omicron

ओमिक्रोन से निपटने के लिए 2500 लीटरी प्रतिक्षमता के चार ऑक्सीजन प्लांट स्थापित 

  • Updated on 12/9/2021

नई दिल्ली, (टीम डिजिटल) : कोरोना की दूसरी लहर में एकाएक बढ़ी ऑक्सीजन की मांग को देखते हुए अब ऑक्सीजन की पूरी व्यवस्था की गयी है। दिल्ली से सटे नोएडा में कोविड अस्पताल में जहां 2500 लीटर प्रति मिनट क्षमता के चार ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हैं। वहीं जनपद के विभिन्न स्वास्थ्य केन्द्रों पर 1000 और 500 लीटर प्रति मिनट क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट मौजूद हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सुनील कुमार ने कहा कि जनपद में हालांकि ओमीक्रान का अभी तक कोई भी मामला सामने नहीं आया है, फिर भी एहतियातन सतर्कता जरूरी है। कोविड से निपटने के लिए जनपद के 31 चिकित्सालयों में 4582 बेड आरक्षित कर लिये गये हैं। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग तैयार है। जनपद में ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था है। दो सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों बिसरख और दादरी सहित विभिन्न सरकारी चिकित्सालयों में ऑक्सीजन के 11 प्लांट क्रियाशील किए जा चुके हैं। 
 

686 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था
वहीं अन्य सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 686 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था है। यह कंसंट्रेटर आपात स्थिति से तत्काल निपटने में मदद करेंगे। उन्होंने बताया कि जनपद में छह ऐसे निजी अस्पताल हैं जहां ऑक्सीजन के पर्याप्त इंतजाम हैं। स्वास्थ्य विभाग ने इन अस्पतालों को सतर्क रहने का निर्देश दिया हुआ है। सीएमओ ने बताया दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों की निगरानी बढ़ा दी गयी है। बस स्टेशन पर तैनात विभाग की टीम आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच कर रही हैं। उन्होंने बताया यदि किसी भी व्यक्ति की एंटीजन रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसकी तुरंत आरटीपीसीआर जांच करायी जाएगी और इस बीच उसे आइसोलेशन में रखा जाएगा।

सांस के मरीजों की निगरानी बढ़ायी
डा. सुनील कुमार शर्मा ने बताया कि सरकारी और निजी चिकित्सालयों को अलर्ट जारी कर सांस के मरीजों पर कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिये गये हैं। किसी भी मरीज में आईएलआई (इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस) और सारी (सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इं.फेक्शन) के लक्षण दिखते हैं तो तुरंत सतर्कता बरती जाए।
 

लक्षण दिखने पर कोविड टेस्ट कराएं
सीएमओ ने कहा कि जुकाम, खांसी, बुखार आईएलआई (इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस) या सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इं.फेक्शन (सारी) के लक्षण आने पर तुरंत चिकित्सक से परामर्श लेकर अपना कोविड टेस्ट कराएं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से यह सुविधा निशुल्क उपलब्ध है।

टीके की दोनों डोज जरूर लगवाएं
डा. शर्मा ने कहा कि कोविड रोधी टीका लगवाने से कोविड की गंभीरता का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है, इसलिए यदि अभी तक जिन लोगों ने टीकाकरण नहीं करवाया है वह अवश्य कराएं। इसके साथ ही जिन लोगों ने अभी तक केवल टीके की एक डोज ली है वह समय पर दूसरी डोज भी अवश्य लें।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.