from munde to jaitley bjp lost many of its precious leader in 5 years

मुंडे से लेकर जेटली तक... 5 साल में भाजपा ने गंवाए अपने कई अनमोल रत्न

  • Updated on 8/24/2019

नई दिल्ली/नीरज कुमार। भारतीय जनता पार्टी (BJP) अभी सुषमा स्वराज (sushma swaraj) के अचानक मौत से उबर भी नहीं पाई थी कि पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरूण जेटली (Arun Jaitley) का आज दोपहर 12.07 बजे दिल्ली के एम्स में निधन हो गया। जेटली के निधन से पूरे देश में शोक का माहौल है। 

Navodayatimes

बता दें कि बीजेपी ने बीते 5 साल में अपने कई कद्दावर नेता खो दिए है, जिसमें गोपीनाथ मुंडे, अटल बिहारी वाजपेयी, मनोहर पर्रिकर, सुषमा स्वराज और अब अरुण जेटली भी शामिल हो गए है। आइए जाने इन नेताओं के बारे में कुछ रोचक बातें...

अटल बिहारी वाजपेयी (16 अगस्त 2018)

भाजपा (BJP) के दिगवंत नेता और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal bihari vajpayee) का  16 अगस्त  2018 को  93 वर्ष की आयु में निधन हो गया था। वाजपेयी का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर में  25 दिसंबर 1924 को हुआ था। मालूम हो कि उनके निधन के बाद बीजेपी ने उनकी अस्थियों को देश की 100 नदियों में प्रवाहित किया था और इसकी शुरुआत हरिद्वार से हुई थी।

Navodayatimes

बता दें अटल बिहारी वाजपेयी (vajpayee) ने राजनीति में अपना अलग ही मुकाम हासिल किया। उन्हें 2014 में भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था। वाजपेयी पहली बार 1996 में देश का प्रधानमंत्री बने थे लेकन उस वक्त उनकी सरकार सिर्फ तेरह दिनों तक चली थी।  वहीं 1998 में जब वह दुबारा सरकार बनाये और प्रधानमंत्री बने और तब उनकी सरकार 13 महीने तक चली थी। लेकिन साल 1999 में जब उनकी सरकार बनी तो वह तीसरी बार प्रधानमंत्री  के रूप में पूरे 5 बर्षों का कार्यकाल पूरा किया था। 

मनोहर पर्रिकर (17 मार्च 2019)

Navodayatimes

देश के ईमानदार और दिलेर नेताओं में शुमार मनोहर पर्रिकर (Manohar parrikar) का निधन 17 मार्च 2019 को कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के कारण हुई थी। पर्रिकर ने 63 साल की उम्र में अपनी अंतिम सांस ली। बता दें कि मनोहर पर्रिकर चार बार गोवा के मुख्यमंत्री रहे थे। इसके अलावे मोदी सरकार (Modi government) में उन्हें रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) की जिम्मेदारी भी दी गई थी।

गोपीनाथ मुंडे (3 जून 2014)

Navodayatimes

भाजपा (BJP) ने जब लंबे समय बाद साल 2014 लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी (Narendra modi) के अगुवाई में शानदार प्रदर्शन करते हुए सत्ता में वापसी की थी। मोदी सरकार के बने अभी कुछ ही दिन हुए थे कि अचानक खबर की आयी कि एक हादसे में केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे (gopinath munde) की निधन हो गया। इस खबर को सुनकर सब हैरान और स्तब्ध हो गए। बता दें केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे (gopinath munde) का निधन 3 जून 2014 को साथ सड़क हादसे में हुई थी।

सुषमा स्वराज (6 अगस्त 2019)

पुरे विश्व में प्रखर वक्ता के तौर पर अपनी अगल पहचान बनाने वाली बीजेपी के दिग्गज नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (sushma swaraj) ने 6 अगस्त 2019 को अपनी अंतिम सांस ली। मालूम हो अटल बिहारी वाजपेयी (Atal bihari vajpayee) के बाद दूसरे नंबर पर कुशल वक्ता के रुप में हमेशा याद किया जाएगा। सुषमा स्वराज की मौत दिल का दौड़ा पड़ने से हुआ था।

Navodayatimes

बता दें सुषमा स्वराज (sushma swaraj) ने विदेश मंत्री (foreign Minister) रहते हुए उन्होंने पद की गरिमा बढ़ा दी थी। विदेश मंत्री के तौर पर अटल बिहारी वाजपेयी के बाद सुषमा स्वराज एक मात्र रही जो देश की जनता से सीधा संवाद किया। विदेशों में रह रहे भारतीयों के समस्याओं के बारे में चिंता की। इससे पहले वो 1998 तक दिल्ली (delhi cm) की मुख्यमंत्री रही थी। 

 

 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.