Tuesday, Dec 07, 2021
-->
gandhian activist harsh mandar to move court against up police atrocities in amu campus

AMU परिसर में पुलिस ज्यादती के खिलाफ कोर्ट का रुख करेंगे हर्ष मंदर

  • Updated on 12/18/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गांधीवादी कार्यकर्ता एवं पूर्व आईएएस अधिकारी हर्ष मंदर और उनके कुछ सहयोगियों ने हाल में हिंसा से प्रभावित अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) का मंगलवार को दौरा किया और कहा कि एएमयू के साथ एक तथ्यान्वेषी दल से मामले की जांच कराकर परिसर में हुई‘पुलिस ज्यादती’के खिलाफ एक कानूनी वाद दाखिल किया जाएगा। 

#CCA के खिलाफ बॉलीवुड एकजुट, फरहान अख्तर ने किया 'क्रांति' का आह्वान

मंदर और उच्चतम न्यायालय के कुछ वकीलों ने एएमयू परिसर का दौरा किया और बाद में यूनीर्विसटी स्टाफ क्लब में विश्वविद्यालय के शिक्षकों से बातचीत में कहा कि उन्हें छात्रों पर पुलिस के जुल्म के बारे में पता चला है, जो बेहद चौंकाने वाला और हद से बढ़कर है। यह ठीक वैसे ही था जैसे कि इस हफ्ते के शुरू में जामिया मिल्लिया इस्लामिया में देखा गया था। 

#JBT टीचर घोटाला: सजायाफ्ता चौटाला की याचिका पर हाई कोर्ट करेगा विचार

मंदर और उनकी टीम ने परिसर के दौरे के दौरान अनेक छात्रों तथा शिक्षकों से बातचीत की। उन्होंने एएमयू बिरादरी को हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने का ऐलान किया। उन्होंने कहा‘‘हम एएमयू के साथ एक उच्चस्तरीय तथ्यान्वेषी जांच दल बनाएंगे जो परिसर में रविवार को हुई हिंसा  की जांच करेगा और फिर पुलिस ज्यादती के खिलाफ एक कानूनी याचिका दाखिल करेगा।‘‘ 

RTI कानून के तहत EVM को ‘सूचना’ बताने वाला CIC का आदेश निरस्त

मंदर ने कहा कि हो सकता है कि एएमयू प्रशासन ने परिसर के वातावरण को देखते हुए पुलिस से मदद मांगी हो, मगर उनकी आपत्ति इस तथ्य पर केन्द्रित है कि पुलिस ने उसके लिये जरूरी प्रोटोकॉल को पूरी तरह हवा में उड़ा दिया और परिसर में अराजकता फैलायी। मंदर ने कहा कि उन्होंने खुद विधि संकाय के कई छात्रों से बात की है जिनके शरीर पर पुलिसिया ज्यादती के निशान हैं। 

कमल हासन ने भी CAA को लेकर मोदी सरकार पर बोला हमला

मीडिया के सामने लाये गये एक छात्र ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर बताया कि पुलिस ने परिसर में ज्यादती की थी। रविवार की रात पुलिस उसे अकराबाद थाने ले गयी जहां पर उसे नग्न करके पीटा गया और फिर छोड़ दिया गया। रिहा होने के बाद डॉक्टरी जांच में उसे कई गम्भीर चोटें आने की बात सामने आयी है। छात्र ने मंदर और उनकी टीम से कहा कि उसने यह बातें पहले इसलिये नहीं बतायीं क्योंकि उसे जान का खतरा था। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.