gauahar-khan-sad-on-this-eid-for-jammu-kashmir-people

Eid Ul Adha के मौके पर दुखी हैं गौहर खान, सोशल मीडिया पर लिखा- I’m sad!

  • Updated on 8/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आज देशभर में ईद (eid ul adha 2019) का त्यौहार मनाया जा रहा है। ऐसे में आम लोगों से लेकर सभी सेलेब्स तक एक दूसरे को ईद की बधाइयां दे रहे हैं लेकिन इन सभी के बीच गौहर खान(Gauahar Khan) ने एक ट्वीट (Tweet)किया जिसमें वो काफी दुखी नजर आ रही हैं।

बॉलीवुड(Bollywood)  एक्ट्रेस गौहर खान ने ट्वीट करते हुए कहा कि 'जब कोई त्यौहार पर अपने रिश्तेदारों से बात नहीं कर रहा हो तो इस दर्द के बारे में वो ही काफी अच्छे से समझ सकता है।  मै इस ईद पर काफी दुखी हूं क्योंकि मेरी तरह बहुत से लोग है जो इस मौके पर अपने परिजनों और रिश्तेदारों से बात नहीं कर पा रहे हैं। मै उन सभी के लिए प्रार्थना करती हूं। 

उनके इस ट्वीट के बाद यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरु कर दिया। यूजर्स के  कमेंट्स देखकर  गौहर खान एक  और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा कि ईद मनाओ खुशी बाटों अपनी जिंदगी जीने का कोई भी पल नफरत, घृणा, विभाजन जैसे तत्वों को छीनने मत दो। अपने ही लोगों से गले मत मिलो, लेकिन दूसरे धर्म, कास्ट, जातियों, विश्ववास को भी गले लगाओ। बस प्यार बाटों, ईद मुबारक।'

फिल्म 'साहो' से महेश मांजरेकर का दिलचस्प पोस्टर हुआ रिलीज

आपको बता दें कि  गौहर खान इससे पहले भी कई बार विवादित  ट्वीट करती रही हैं जिसके लिए उन्हें ट्रोल किया जा चुका है। 

कश्मीर के पुलिसकर्मी ने शेयर किया सामान्य होते हालात का वीडियो

कश्मीर के पुलिसकर्मी इम्तियाज हुसैन ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो पोस्ट की। जिसमें कश्मीर के हालात सामान्य नजर आए। इस वीडियो को रविवार दोपहर 12 बजे तक तीन लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका था। इस ट्वीट पर आरएसएस के वरिष्ठ सदस्य तरुण विजय ने हुसैन को आर्शीवाद देते हुए ईद की बधाई दी। 

bdy spl: सारा ने बॉलीवुड में एंट्री के लिए इस डायरेक्टर के जोड़े थे हाथ पैर तब सैफ ने लगाई फटकार

क्या था अनुच्छेद 35A
अनुच्छेद 35A संविधान में शामिल प्रावधान था जो जम्मू- और कश्मीर विधान- मंडल को यह अधिकार प्रदान करता है कि वह यह तय करे कि जम्मू और कश्मीर का स्थायी निवासी कौन है और किसे सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियों में विशेष आरक्षण दिया जायेगा, किसे संपत्ति खरीदने का अधिकार होगा, किसे जम्मू और कश्मीर विधानसभा चुनाव में वोट डालने का अधिकार होगा, छात्रवृत्ति तथा अन्य सार्वजनिक सहायता और किसे सामाजिक कल्याण कार्यक्रमों का लाभ मिलेगा। अनुच्छेद 35A में यह प्रावधान था कि यदि राज्य सरकार किसी कानून को अपने हिसाब से बदलती है तो उसे किसी भी कोर्ट में चुनौती नहीं दी जा सकती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.