Tuesday, Jul 23, 2019

राजस्थान में भी सीएम पद को लेकर गहलोत और पायलट में बढ़ी तकरार

  • Updated on 7/11/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल।  राजस्थान (rajasthan) के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (sachin pialot) ने एक बार फिर बागी तैवर दिखाया है। साथ ही उन्होंने सीएम पद के लिए दावेदारी भी ठोककर अशोक गहलोत (ashok gahlot) की परेशानी बढ़ा दी है। पायलट आज जयपुर में प्रेसवार्ता को संबोधित कर रहे थे। जहां उन्होंने संकेत दिया कि अभी-भी उनका दावा कमजोर नहीं हुआ है।

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने कहा- बढ़ती जनसंख्या चुनौती से कम नहीं

सीएम पद को लेकर बढ़ा मतभेद

उनका यह इशारा राज्य में सीएम पद की लड़ाई को लेकर था कि जिसको लेकर अक्सर अशोक गहलोत से टकराते फिरते है। इससे पहले बजट पर पत्रकारों से सवाल-जवाब में सीएम अशोक गहलोत ने भी कहा था कि राज्य की जनता ने उन्हें ध्यान में रखकर वोट डाला था। लेकिन कुछ लोग जल्दबाजी करते हुए अपना नाम भी सीएम के लिए उछालते रहते है। जो सही नहीं है। 

दिल्ली सरकार का कोई भी अधिकारी मीडिया को नहीं देगा विकास कार्यों की जानकारी, सर्कुलर जारी

गहलोत ने कहा कि वे बने रहेंगे सीएम

अशोक गहलोत ने एक बार फिर स्पष्ट कर दिया कि राज्य की बागडोर अभी उनके ही हाथ में रहेगी। गहलोत के इस जवाब को सचिन के लिए नसीहत माना जा रहा है। और साथ ही पार्टी में खैमेबाजी बढ़ने के संकेत भी दे रही है। राजस्थान में अब गहलोत और पायलट के आमने-सामने आने से आने वाले दिनों में संकट ओर भी गहराने के संकेत मिलने शुरु हो गए है। 

विधानसभा चुनाव परिणाम से ही पायलट है दावेदार

दरअसल विधानसभा चुनाव के परिणाम से ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने सीएम पद के लिए अपनी दावेदारी ठोक दी थी। लेकिन अंत में राहुल के हस्तक्षेप से यह मामला शांत हुआ। अशोक गहलोत को सीएम चुना गया तो सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री बनाया गया। लेकिन एक बार फिर से दोनों आमने-सामने हो गए है। जिससे पार्टी के कार्यकर्ताओं में गलत संदेश भी जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.